पति संग 1,200 किमी का रास्ता स्कूटर से तय कर परीक्षा देने आई गर्भवती महिला को अडानी फाउंडेशन हवाई मार्ग से पहुंचाएगा घर

झारखंड के गोंड्डा से अपनी गर्भवती पत्नी को स्कूटर पर बिठाकर 1,200 किलोमीटर का सफर तय कर परीक्षा दिलाने ग्वालियर आये थे। धनंजय कुमार हांसदा की मुश्किलें अब आसान हो गई हैं। धनंजय कुमार और उनकी पत्नी अब हवाई जहाज से घर वापसी करेंगे। उनके लिए हवाई यात्रा का इंतजाम अडानी फाउंडेशन द्वारा किया गया है। अडानी समूह की चेयनपर्सन प्रीति अडानी ने संवेदनशीलता दिखाते हुए दंपती को ग्वालियर से रांची के लिए एंडिगो एयरलायंस के दो टिकट मुहैया करा दिए।

27 वर्षीय धनंजय ने रविवार को बताया कि ‘‘अडानी ग्रुप के फाउंडेशन की ओर से हमें ग्वालियर से रांची की हवाई यात्रा का टिकट मिल गया है। यह टिकट 16 सितंबर का है। ग्वालियर से रांची के लिए सीधी उड़ान नहीं है, इसलिए हम दोनों हैदराबाद होकर रांची पहुंचेंगे। इसके बाद रांची से सड़क मार्ग से गोड्डा जाएंगे। इसका इंतजाम गोड्डा के जिलाधिकारी ने किया है।’’ वह बताते हैं कि ‘‘मेरे स्कूटर को भी भेजने का इंतजाम अडानी फाउंडेशन करेगा।’’

दरअसल कोरोना महामारी के कारण ट्रेन और बस सहित यात्रा के साधन उपलब्ध नहीं होने के कारण झारखंड के गोड्डा से धनंजय अपनी 22 वर्षीय गर्भवती पत्नी सोनी हेम्बरम को स्कूटर पर बिठाकर डीएड (डिप्लोमा इन एजुकेशन) की परीक्षा दिलाने के लिए 30 अगस्त को ग्वालियर आए थे।

इस सफर के दौरान उन्होंने बारिश और खराब सड़कों का भी सामना किया और करीब 1200 किलोमीटर का सफर तय किया। मामला सामने आने के बाद ग्वालियर प्रशासन ने हरकत में आया और उनकी मदद के लिए 5,000 रूपए भी दंपति को दिए। अब अडानी फाउंडेशन ने हवाई मार्ग से उनको वापस भेजने का इंतजाम भी कर दिया है।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply