12 साल की रिद्धिमा ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखा पत्र; कहा, ”क्लाइमेट चेंज से ना सिर्फ पर्यावरण पर बल्कि सेहत पर भी पड़ रहा है असर”

Image
12 साल की रिद्धिमा ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखा पत्र, कहा, ”क्लाइमेट चेंज से ना सिर्फ पर्यावरण पर बल्कि सेहत पर भी पड़ रहा है असर”

संयुक्त राष्ट्र संघ के क्लाइमेट एक्शन समिट में स्वीडन की सामाजिक कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग सहित 16 अन्य बच्चों के साथ जलवायु परिवर्तन की लड़ाई लड़ने वाली रिद्धिमा पांडेय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। रिद्धिमा पर्यावरण‌ एक्टिविस्ट हैं और उन्होंने साफ हवा की जरूरत महसूस करते हुए यह पत्र लिखा कि जल्द अगर कुछ नहीं किया गया, तो सभी को एक ना एक दिन ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर चलना पड़ सकता है। 12 साल की रिद्धिमा ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखते हुए, कहा- क्लाइमेट चेंज से ना सिर्फ पर्यावरण पर बल्कि सेहत पर भी असर पड़ रहा है।

अन्य राज्यों के बच्चें कैसे लेते होंगे प्रदूषित पर्यावरण में साँस

पीएम को लिखे ख़त में रिद्धिमा ने लिखा कि मुझे सिर्फ अपनी नहीं दूसरे राज्यों या दिल्ली जैसे अन्य शहरों में रहने वाले बच्चों बच्चों की भी चिंता है क्योंकि उनपर इसका ज़्यादा असर पड़ता होगा।

किताबों के बैग में सिलेंडर ना बना ले जगह

अपनी व्यथा बताते हुए रिद्धिमा अपने पत्र में लिखती हैं कि यह भी सुनिश्चित किया जाए कि किताबों की जगह ऑक्सीजन सिलेंडर बच्चों की जिंदगी का एक अहम हिस्सा न बन जाए, जिसे भविष्य में हमें अपने कंधों पर लेकर चलना पड़ सकता है।

प्रदूषित हवा लोगों के लिए है खतरनाक

रिद्धिमा पत्र में आगे लिगती हैं कि हर साल भारत के कई हिस्सों में हवा बहुत प्रदूषित हो जाती है। हमें इस बारे में सोचना जल्द कुछ होगा। घने शहरों में हवा बहुत ज्यादा प्रदूषित होने की वजह से यह लोगों के लिए यह बहुत ही खतरनाक है।

सबसे ज्यादा प्रदुषित है भारत

भारत एयर पॉल्यूशन से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाला देश है। आंकड़ों के मुताबिक भारत में आज 90 करोड़ टन कोयला, 40 करोड़ टन बायोमास, 20 करोड़ टन तेल और 5 करोड़ टन गैस की ऊर्जा की खपत होती है।

शुद्ध हवा की अहमियत के बारे में लोगों को जागरूक करना है जरूरी

संयुक्त राष्ट्र जनरल असेंबली ने पिछले साल अपने 74वें सत्र के दौरान ‘इंटरनेशनल क्लीन एयर डे फॉर ब्लू स्काई’ मनाने का फैसला किया था। इसका सभी को साफ और शुद्ध हवा की अहमियत के बारे जागरूक करना है।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply