जर्नलिस्ट अर्णब गोस्वामी और कांग्रेस आमने-सामने, जानें क्या है वजह?

देश के जाने-माने टीवी जर्नलिस्ट और न्यूज एंकर अर्णब गोस्वामी पर मुंबई में गुरुवार रात दो लोगों ने हमला किया। हमले के वक्त वह अपनी पत्नी के साथ देर रात घर लौट रहे थे। हालांकि आरोपियों को घटना के तुरंत बाद गिरफ्तार कर लिया गया। उनकी पहचान अरुण बरोडे और प्रतीक मिश्रा के रूप में हुई है। न्यूज चैनल रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्णब गोस्वामी ने आरोप लगाया है कि दो कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उन पर उस वक्त हमला किया, जब वे अपनी पत्नी के साथ घर लौट रहे थे। हालांकि हमले में अर्णब और उनकी पत्नी को कोई चोट नहीं आई है, लेकिन इस घटना के बाद सियासत जरूर गरमा गई है क्योंकि अर्णब ने इस हमले के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताया है। आइए आपको बताते हैं कि अर्णब गोस्वामी और कांग्रेस के बीच विवाद क्यों मचा है और इसका कारण क्या है?

Arnab Goswami.
Image Credit : The Hindu

पालघर मामले में सोनिया पर टिप्पणी से शुरू हुआ मामला

यह पूरा मामला तब शुरू हुआ था जब अर्णब गोस्वामी ने महाराष्ट्र के पालघर में मॉब लिंचिंग में हुई दो साधुओं की मौत पर कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी की चुप्पी को लेकर उन पर निशाना साधा था। मॉब लिंचिंग की यह घटना पालघर के गढ़चिंचले गांव में हुई थी, जोकि मुंबई से 125 किलोमीटर दूर है। इस दर्दनाक घटना में करीब 200 लोगों की भीड़ ने तीन लोगों को पीट-पीटकर मार डाला था। घटनास्थल की सीसीटीवी फुटेज से पता चला है कि मारे गए लोगों में से दो साधु हैं। अर्णब गोस्वामी ने सोनिया गांधी पर इस घटना पर चुप रहने का आरोप लगाते हुए कहा था, ‘मैं देश से यह पूछना चाहता हूं कि जिस तरह से हिंदू संतों की हत्या की गई, अगर उसी तरह किसी मौलवी या पादरी की हत्या की जाती तो क्या तब भी यह देश चुप रहता? क्या तब भी इटली की एंटोनिया मायनो (सोनिया गांधी) चुप रहतीं? मैं आपको बताना चाहता हूं कि अगर मरने वाले ईसाई पादरी होते तो रोम से आईं सोनिया कभी भी इस घटना पर चुप नहीं बैठतीं।’

देर रात घर लौटते वक्त हुआ अर्णब पर हमला

अपने टीवी शो में सोनिया गांधी पर की गई टिप्पणी के लिए अर्णब के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। इस मामले के दूसरे दिन गुरुवार को रात के वक्त घर लौटते समय अर्णब की कार पर दो अज्ञात लोगों ने हमला किया। घटना के बारे में अर्णब ने बताया, ‘रात करीब 12:15 पर मैं अपनी पत्नी के साथ कार से ऑफिस से घर जा रहा था। गणपतराव कदम मार्ग पर बाइक से आए दो लोगों ने हमें ओवरटेक किया। उन्होंने हमारा रास्ता रोका और ड्राइवर साइड से कार की खिड़की पर कई बार वार किया। कार का शीशा नहीं टूटा तो उन्होंने लिक्विड से भरी एक बोतल निकाली और उसे कार पर फेंका।’ अर्णब ने आगे बताया कि 50 मीटर आगे आकर उन्होंने रियरव्यू मिरर में देखा कि उनके सुरक्षाकर्मियों ने हमलावरों को पकड़ लिया है। इसके बाद वे किसी तरह आखिरकार अपने घर पहुंच गए। कुछ देर बाद उनके सुरक्षाकर्मी भी वहां पहुंच गए और उन्होंने बताया कि हमला करने वाले कांग्रेस कार्यकर्ता थे।

पुलिस ने नहीं दिया हमलावरों का ब्योरा

इस घटना के कुछ देर बाद एनएम जोशी मार्ग पुलिस स्टेशन के पुलिसकर्मियों को मामले की जानकारी मिली। उन्हें पता चला कि गणपतराव कदम मार्ग पर कुछ लोगों की भीड़ इकट्ठा है। एक अधिकारी ने बताया, ‘जब हम वहां जमा लोगों के पास गए और उनसे पूछताछ की तो पता चला कि अर्णब गोस्वामी पर दो लोगों ने हमला किया है। हालांकि बाद में आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया।’ दोनों हमलावर मुंबई के सियोन के रहने वाले हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है। हालांकि पुलिस ने कोई ब्योरा नहीं दिया है और न ही इस पर कोई टिप्पणी की है कि हमलावर किसी राजनीतिक पार्टी से जुड़े हैं या नहीं।

सोनिया पर टिप्पणी को लेकर भड़के कांग्रेस नेता

वहीं कांग्रेस के कई नेताओं ने सोनिया गांधी पर की गई टिप्पणी को लेकर अर्णब की जमकर आलोचना की है और कई नेताओं ने उनके खिलाफ मामला तक दर्ज कराने की बात कही है। इस मामले में महाराष्ट्र, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पदाधिकारियों ने अर्णब के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई है। दूसरी ओर अर्णब गोस्वामी का आरोप है कि उन पर हमला युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने किया है। हालांकि हमला करने वाले क्या सचमुच कांग्रेस कार्यकर्ता हैं, यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply