पीआईबी की फैक्ट चेक टीम ने बताया, पीएम फ्री मास्क योजना पूरी तरह से फेक

देशभर में कोरोना वायरस का प्रकोप लगातार बढ़ता ही जा रहा है। केंद्र सरकार ने इस खतरनाक बीमारी पर लगाम लगाने के लिए किए गए लॉकडाउन को तीसरी बार 17 मई तक के लिए बढ़ा दिया है। कोरोना के साथ-साथ इसको लेकर चल रही अफवाहों और फेक न्यूज का बाजार भी गर्म है। आए दिन कोई न कोई फेक न्यूज आती रहती है और लोग बिना सोचे-समझे उसे शेयर करते रहते हैं। इन दिनों फिर सोशल मीडिया पर एक मैसेज तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें दावा किया गया है कि कोरोना वायरस को रोकने के लिए सरकार की ओर से पीएम मास्क योजना शुरू की गई है। इस योजना के तहत सभी लोगों को मास्क मुफ्त बांटा जाएगा। मुफ्त में मास्क हासिल करने के लिए लोगों को एक लिंक पर क्लिक करने को कहा गया है। हालांकि भारत सरकार के प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो (पीआईबी) की फैक्ट चेक टीम ने इस खबर को झूठा करार दिया है।

पीआईबी की फैक्ट चेक टीम ने बताया, पीएम फ्री मास्क योजना पूरी तरह से फेक
Image Credit : Hindustan Times

वायरल मैसेज में किया गया फ्री मास्क का दावा

वॉट्सऐप, फेसबुक और ट्विटर समेत दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर यह मैसेज तेजी से शेयर किया जा रहा है। वायरल मैसेज में लिखा है, ‘कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप से हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने स्वच्छ भारत के अंतर्गत सभी भारतीयों को कोरोना वायरस मुक्त मास्क फ्री में देने का फैसला किया है। आप नीचे लिंक पर क्लिक करके अपना फ्री मास्क ऑर्डर करके पहनिए और स्वच्छ भारत का हिस्सा बनिए।’ फ्री मास्क हासिल करने के लिए www.narendramodiawasyojana.in/?m= लिंक पर क्लिक करने को भी कहा गया है।

क्या है इस दावे की सच्चाई

पीआईबी की फैक्ट चेक टीम ने वायरल हो रहे इस फेक मैसेज का सच बताते हुए कहा है कि केंद्र सरकार की ओर से पीएम मास्क योजना नाम की कोई भी योजना नहीं चल रही है। यह लिंक फेक है। इस तरह की किसी भी फेक न्यूज को शेयर न करें। पीआईबी ने कहा है कि शरारती तत्वों की ओर से इस तरह की खबरें फैलाई जा रही हैं और लोग इस तरह की झूठी खबरों पर बिल्कुल ध्यान न दें।

50 हजार के राहत पैकेज की खबर भी झूठी

इससे पहले भी पीआईबी की फैक्ट चेक टीम ने एक खबर को गलत बताया था जिसमें दावा किया गया था कि भारत सरकार ने राष्ट्रीय शिक्षित बेरोजगार योजना शुरू की है। इस योजना के तहत सरकार सभी राशन कार्डधारकों को 50 हजार रुपए का राहत पैकेज दे रही है। इसके लिए एक लिंक पर जाकर रजिस्ट्रेशन करने के लिए कहा गया था। इसमें यह भी कहा गया है कि राशन कार्डधारकों के खाते में 50 हजार रुपए ऑनलाइन ट्रांसफर किए जाएंगे। पीआईबी ने इस खबर को भी अफवाह बताया। पीआईबी फैक्ट चेक के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया कि दावा किया जा रहा है कि सरकार ने राष्ट्रीय शिक्षित बेरोजगार योजना शुरू की है, जिसमें सभी राशन कार्डधारकों को 50 हजार रुपए का राहत पैकेज दिया जाएगा। पीआईबी फैक्ट चेक में यह खबर गलत निकली है। भारत सरकार की ओर ऐसी कोई योजना नहीं शुर की गई है। इस तरह की फेक साइट्स से सावधान रहें। ये फ्रॉड साइट्स आपकी निजी जानकारी जुटा कर उनका गलत इस्तेमाल कर सकती हैं।

वॉट्सऐप को लेकर भी फैली थी फेक न्यूज

पिछले महीने भी इसी तरह की एक फेक न्यूज सोशल मीडिया पर फैली थी। इस खबर में दावा किया गया था कि केंद्र सरकार अब वॉट्सऐप पर शेयर किए जाने वाले हर मैसेज की निगरानी करेगी और जो भी फेक न्यूज शेयर करेगा उसके खिलाफ कार्रवाई करेगी। कई यूजर्स ने सोशल मीडिया पर इस मैसेज को शेयर किया। पीआईबी फैक्ट चेक ने इस खबर को भी पूरी तरह से गलत बताया और कहा कि सरकार की ओर से ऐसा कोई आदेश जारी नहीं किया गया है। यह मैसेज पूरी तरह से फर्जी है और लोग इस पर ध्यान न दें।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply