केंद्रीय गृह मंत्रालय ने IPS अधिकारी पुरुषोत्तम शर्मा के निलंबन को रखा बरकरार, पत्नी को पीटने के मामले में हुए थे निलंबित

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने IPS अधिकारी पुरुषोत्तम शर्मा के निलंबन को रखा बरकरार, पत्नी को पीटने के मामले में हुए थे निलंबित (image credit- bhasakar)

करीब एक महीने पहले अपनी पत्नी को बेरहमी से पीटने वाले आईपीएस अधिकारी पुरुषोत्तम शर्मा के निलंबन को केंद्रीय गृह मंत्री ने बरकरार रखा है। मध्य प्रदेश के मुख्य सचिव को बुधवार को भेजे गये एक पत्र में केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने शर्मा के निलंबन की पुष्टि को मंजूरी दे दी।

इसके अलावा, केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार को शर्मा के खिलाफ 27 नवंबर तक आरोप पत्र दाखिल करने की सलाह भी दी है। और कहा है कि, चार्जशीट देकर इसकी जानकारी केंद्र सरकार को दी जाए। यह भी पढ़ें: केंद्र ने दी इजाजत : जम्मू-कश्मीर में ख़रीद सकते हैं ज़मीन, नहीं पड़ेगी Domicile की जरूरत

गौरतलब है कि, पुरुषोत्तम शर्मा ने अपनी पत्नी को बेरहमी से पीटा था जिसका वीडियो 28 सितंबर को सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। वीडियो में वह अपनी पत्नी के साथ अपने घर में कथित तौर पर मारपीट करते दिख रहे थे। पत्नी से मारपीट करने का वीडियो वायरल होने के बाद सस्पेंड कर दिया था। सरकार के फैसले के विरुद्ध शर्मा ने कैट में अपील किया था पर वहां से उन्हें राहत नहीं मिली थी। यह भी पढ़ें: फोर्टिस अस्पताल में युवती के साथ वेंटिलेटर पर हुआ बालात्कार, पिता को लिख कर बताई आपबीती

इसके साथ ही उसी दिन एक और वीडियो भी सामने आया था। जो अधिकारी की पत्नी द्वारा रिकार्ड किया गया बताया गया था। इसमें शर्मा एक अन्य महिला एंकर के घर में बैठे हुए दिखाई पड़ रहे थे। बताया गया था कि, शर्मा की पत्नी को दोनों के रिश्ते को लेकर शक था और वे अपने पति को रोक रही थी जिसे लेकर दोनों के बीच घर में झगड़ा हुआ और अधिकारी ने अपनी पत्नी की बेरहमी से पिटाई कर दी।

इसके बाद घरेलू हिंसा और अखिल भारतीय सेवा आचरण नियमों के मानदंडों का उल्लंघन करने के मामले में दिये गये कारण बताओ नोटिस पर शर्मा का जवाब असंतोषजनक पाये जाने के बाद मध्य प्रदेश सरकार ने उन्हें विशेष महानिदेशक के पद से निलंबित किया। यह भी पढ़ें: पाकिस्तान मंत्री का कुबूलनामा, पुलवामा हमले को बताया बड़ी कामयाबी

इसके अलावा, केन्द्र सरकार द्वारा राज्य सरकार को भेजे गये पत्र के बारे में पूछे गये सवाल पर शर्मा ने कहा, ‘‘यह एक प्रक्रिया है। मैं अपना जवाब दूंगा और अदालत का दरवाजा भी खटखटाऊंगा।’’ यह भी पढ़ें: महबूबा मुफ्ती का तिरंगा वाला बयान पीडीपी को पड़ा भारी, पार्टी के तीन नेताओं ने दिया इस्तीफा

वहीं मारपीट मामले में शर्मा ने कहा था कि यह पारिवारिक विवाद है और इसे हम आपस में अपने घर में सुलझा लेंगे। शर्मा ने राज्य सरकार को पत्र लिखकर कहा था कि उनका निलंबन रद्द किया जाए।

हालांकि, उनकी दलील पर विचार नहीं किया गया। इस मामले में वह केंद्रीय प्रशासनिक न्यायाधिकरण (कैट) में भी गये थे। लेकिन कैट ने भी उनके निलंबन को कायम रखा और यह दलील दी कि निष्पक्ष जांए जरूरी कदम है। शर्मा ने कहा कि उनकी याचिका अभी कैट के पास लंबित है। यह भी पढ़ें: अक्षय कुमार की आगामी फिल्म ‘लक्ष्मी बम’‌ का नाम ‌ बदला, जानिए क्या है कारण


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *