अमित शाह की वर्चुअल रैली के बाद राहुल-राजनाथ में शुरू हुई ट्विटर वॉर

बिहार: राज्य में होने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारी शुरू हो चुकी है। रविवार को भाजपा नेता और भारतीय गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को वर्चुअल रैली कर चुनाव प्रचार का आगाज़ किया। विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अमित शाह ने संबोधन दिया। संबोधन में मौजूद श्रोताओं के ओर से सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखा गया। इस संबोधन में गृहमंत्री की ओर से मोदी सरकार द्वारा किए गए कामों का विस्तार से वर्णन किया। मोदी सरकार द्वारा भारतीय संविधान में लागू किए गए ट्रिपल तलाक़ कानून, कश्मीर से धारा 370 और 35A का हटाना और कोरोना वायरस महामारी में केंद्र सरकार द्वारा किए गए प्रयासों का वर्णन किया।

अमित शाह ने कहा कि नीतीश कुमार के साथ मिलकर दो-तिहाई बहुमत के साथ एनडीए बिहार में सरकार बनाएगी। जनता कर्फ्यू इतिहास के पन्नों में सुनहरे अक्षरों से लिखा जाएगा। एक नेता के आग्रह पर बिना पुलिस फोर्स के उपयोग से भारत की जनता ने कर्फ्यू का समर्थन किया और बताया कि संकट की इस घड़ी में देश एकजुट होकर खड़ा है। 

ट्विटर वॉर:

अमित शाह ने रविवार को विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिए दिए संबोधन में कहा था कि भारत की रक्षा नीति को विश्व भर ने स्वीकार किया है। पूरा विश्व इस बात से सहमत है कि अगर इजरायल और अमेरिका के बाद अगर कोई देश अपनी सीमा को सुरक्षित कर सकता है तो वह भारत है। अमित शाह के इस बयान के बाद कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर अमित शाह पर तंज कसा। राहुल गांधी ने कहा कि, “सबको मालूम है सीमा की हकीकत लेकिन, दिल के खुश रखने को, “शाह-यद” ये ख्याल अच्छा है।”

राहुल गांधी के इस ट्वीट के बाद कुछ लोगों ने राहुल गांधी को ट्रोल करना शुरू कर दिया था। वहीं दूसरी तरफ उनके समर्थकों ने समर्थन भी किया।

राहुल गांधी के इस ट्वीट का जवाब देते हुए भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी पलटवार किया। उन्होंने सोमवार देर शाम मिर्ज़ा ग़ालिब का शेर अलग अंदाज में पेश कर ट्वीट करते हुए कहा कि, “हाथ में दर्द हो तो दावा कीजै, हाथ ही जब दर्द हो तो क्या कीजै।”


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply