मध्यप्रदेश की सियासी उठापटक ख़त्म हुई

मध्यप्रदेश में काफी दिनों चल रहा सियासी ड्रामा थम गया है। सोमवार रात को बीजेपी नेता शिवराज सिंह चौहान ने चौथी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। राज्यपाल लालजी टंडन ने सोमवार को राजभवन में सादे समारोह का आयोजन कर राज्य के 19वें मुख्यमंत्री के रूप उन्हें शपथ दिलाई। इस समारोह में 40 लोग मौजूद रहे जिनके बैठने की व्यवस्था काम से काम एक मीटर की दूरी पर थी। शिवराज सिंह चौहान मध्यप्रदेश के पहले ऐसे नेता है जिन्होंने चौथी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है। शपथ के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर बधाई दी। शपथ समारोह में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, भाजपा नेता उमा भारती सहित कई बड़े अधिकारी व नेता शामिल रहे।

फोटो क्रेडिट : जागरण डॉट कॉम

शपथ लेने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कोरोना वायरस को रोकने की बात कही है। उन्होंने कहा की “अभी हमारी एक ही मुख्य प्राथमिकता है कोरोना वायरस को रोकना ,यह एक बड़ी चुनौती है”। शपथ समारोह के बाद शिवराज सीधे वल्लभ भवन पहुंचे और कोरोना से जुड़े दस्तावेज पर हस्ताक्षर किया। इसके बाद अधिकारी संग के साथ बैठक कर कुछ आवश्यक निर्देश दिए।

विधानसभा सचिवालय के अनुसार मंगलवार से विधानसभा सत्र शुरू होगा, जोकि 27 मार्च तक रहेगा। इन्ही सब के बीच सोमवार रात विधानसभा स्पीकर एनपी प्रजापति ने डिप्टी स्पीकर हिना कांवरे को इस्तीफा दे दिया। 25 मार्च को गुड़ी पड़वा का अवकाश रहेगा और 26 मार्च को सरकार बजट प्रस्तुत करेगी। इसी दौरान नए स्पीकर की भी नियुक्ति हो सकती है।

फोटो क्रेडिट : एसियानेट न्यूज़

काफी दिनों से मध्यप्रदेश की राजनैतिक खिंचातनी की वजह से मध्यप्रदेश की व्यवस्था में काफी प्रभाव पड़ा है, जो अब शायद समाप्त हो जायेगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने शपथ से दौरान ये भी कहा की वो कोरोना के बाद प्रदेश के बाकि कार्यो में भी ध्यान देंगे। शिवराज सिंह के मुख्यमंत्री पद में आते ही खबर है कि आईएएस ऑफिसर इकबाल सिंह बैंस को नया मुख्यसचिव और विवेक अग्रवाल को मुख्यमंत्री कार्यालय में प्रमुख सचिव बनाया जा सकता है। प्रदेश में कोरोना की स्थित को देखते हुए ब्यूरोक्रेसी में बदलाव का समय निर्धारित किया जायेगा।

Leave a Reply