'बिहार का वुहान' बना सिवान, एक युवक ने किया पूरे गांव को कोरोना संक्रमित

Image credit :Times now

पूरे देश में कोरोनावायरस बड़ी तेजी से फैल रहा है। अभी तक शहरों में ही पाॅजटिव मरीज मिल रहे थे लेकिन अब गांव में भी ही कोरोना के पाॅजटिव मरीज मिल रहे है। बिहार के सिवान गांव में थोड़े दिन पहले एक 35 वर्षीय युवक मदन सिंह ओमन से आया था। जिसके बाद वह युवक गांव अपने परिवार और कई अन्य लोगों से भी मिला। बाद में जब उस युवक का टेस्ट किया गया तो वह युवक कोरोना पाॅजटिव निकला। इसके बाद गांव में वह युवक जिनके परिवार सहित जिनके भी संपर्क में आया उन व्यक्तियों का टेस्ट किया गया तो गांव में उसके परिवार सहित गांव में 23 कोरोना पाॅजटिव मरीज पाए गए। जिसके बाद गांव को सील कर दिया गया। इस गांव को अब ”बिहार का वुहान” भी कहा जाने लगा है।

विदेश से आने के बाद भी सबसे मिलता रहा युवक

इस गांव में 20 के दशक में मदन सिंह ही अंतिम युवक गांव से आया था। मदन 22 मार्च को ओमान से आया था 22 मार्च को पटना के रास्ते घर पहुंचा। यह मामला तब सामने आया जब 27 मार्च को जिले के नौतन ब्लॉक के अंतर्गत एक गाँव से पहला सकारात्मक मामला सामने आया। अधिकारियों ने उन लोगों की फिर से जाँच करने का आदेश दिया जो विदेश से लौटे थे और पंजवार निवासी का नाम सूची में है।
तब भी उन्होंने मेडिकल जांच से बचने की कोशिश की। गांव के ग्रामीण राकेश कुमार (28) ने कहा, “जब एक मेडिकल टीम ने परीक्षण के लिए नमूने एकत्र करने के लिए गाँव का दौरा किया, तो युवक ने खुद को ‘दलान’ में कैद कर लिया और टीम को बताया कि वह ‘घर से बाहर रह रहा है’ और परिवार के सदस्यों के साथ नहीं रह रहा है।” हालांकि अप्रैल को उनका ब्लड टेस्ट किया गया था और परीक्षण रिपोर्ट ने उन्हें COVID-19 के लिए सकारात्मक की पुष्टि की।

गांव को किया गया सील और अन्य लोगों की हो रही है जांच

सिवान में तैनात एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा ”युवक 22 मार्च से 1 अप्रैल तक परिवार के सदस्यों के साथ रहे और इस तरह उनके परिवार और करीबी रिश्तेदारों के कुल 23 सदस्य संक्रमित हुए। जबकि 23 की परीक्षण रिपोर्ट सकारात्मक पाई गई है, शेष लोगों की रिपोर्ट का इंतजार किया गया था।” इसके आलावा पूरे गांव को सैनिटाईज किया जा चुका है।

रघुनाथपुर ब्लॉक के चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि वह व्यक्ति स्पर्शोन्मुख था और उससे वायरस पाने वाले सभी लोग भी स्पर्शोन्मुख थे। उन्होंने स्वीकार किया कि ओमान-लौटे व्यक्ति ने घर के संगरोध मानदंडों का पालन नहीं किया है और परिणाम सभी को देखना है। गांव के निवासियों को घर के अंदर रहने के लिए कहा गया है। प्रवेश और निकास बिंदु पहले से ही सील कर दिए गए हैं और निवासियों के आंदोलन पर निगरानी तेज हो गई है।

गाँव के प्रवेश द्वार को मजबूत बांस के खंभे से बने एक मेकशिफ्ट गेट के साथ ब्लॉक किया गया है और इस पर हिंदी में एक नोटिस चिपकाया गया है जिस पर लिखा है ”बाहरी लोगों का प्रवेश निषिद्ध”। गांव के निवासियों पर निगरानी रखने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया जा रहा है।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply