PM मोदी ने संबोधन में कोरोना को गंभीरता से लेने की की अपील, कहा- जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं

PM मोदी ने संबोधन में कोरोना को गंभीरता से लेने की की अपील, कहा- जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार की शाम को राष्ट्र के लोगों को सम्बोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि, कोरोना को गंभीरता से लेने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि, लॉकडाउन भले ही चला गया हो लेकिन वायरस नहीं गया। 2 गज की दूरी, समय-समय पर साबुन से हाथ धोने और मास्क लगाने की सख्त जरूरत है।

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में देश बहुत ही संभली हुई स्थिति में है, ऐसे में कही लापरवाही भारी न पड़े। उन्होंने लोगों को आगे भी एहतियात बरतने की सलाह भी दी है।

उन्होंने कहा कि, आज हमारे देश में कोरोना की रिकवरी दर अमेरिका और ब्राजील जैसे देशों के मुकाबले काफी बेहतर है। भारत में प्रति 10 लाख पर 5 हजार लोगों को कोरोना हुआ है जबकि अमेरिका और ब्राजील जैसे देशों में यह आंकड़ा 25 हजार से अधिक है। भारत में प्रति 10 लाख पर मौत 83 है, जबकि अमेरिका समेत अन्य देशों में यह 600 के पार है। यह भी पढ़ें: हिन्दू युवक से शादी और तनिष्क विज्ञापन का समर्थन करने पर महिला हुई ट्रोल, साइबर सेल में दर्ज की एफआईआर

जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं

कोरोना की वैक्सीन को लेकर सरकार की तैयारी पहले से पूरी हो चुकी है। जब भी वैक्सीन आएगी, वो जल्द से जल्द प्रत्येक भारतीय तक पहुंचाई जाएगी। इसके लिए तेज गति से काम हो रहा है।

मोदी ने आगे कहा कि, जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं, यह बात सभी को याद रखना है। दो गज की दूरी, समय-समय पर साबुन से हाथ धुलना और मास्क का पहने रहना है। जीवन में ख़ुशियां तभी बनी रहेंगी, जब जीवन की ज़िम्मेदारियों को निभाना और सतर्कता ये दोनों साथ साथ चलेंगे। यह भी पढ़ें: जेसिंडा अर्डर्न की शानदार जीत, 120 में से 64 सीट हासिल कर बहुमत से बनीं सरकार

मोदी कहते हैं कि, एक कठिन समय से निकलकर हम आगे बढ़ रहे हैं, थोड़ी सी लापरवाही हमारी गति को रोक सकती है, हमारी खुशियों को धूमिल कर सकती है। कोरोना के खिलाफ जंग में जनता कर्फ्यू से लेकर आज तक हम भारतवासियों ने बहुत लंबा सफर तय किया है।

पिछले 7-8 महीनों में, प्रत्येक भारतीय के प्रयास से, भारत आज जिस संभली हुई स्थिति में हैं, हमें उसे बिगड़ने नहीं देना है।

भूलें नहीं लॉकडाउन भले चला गया हो, वायरस नहीं

हम में से अधिकांश लोग, अपनी जिम्मेदारियों को निभाने के लिए, फिर से जीवन को गति देने के लिए, रोज घरों से बाहर निकल रहे हैं। समय के साथ आर्थिक गतिविधियां भी तेजी से बढ़ रही हैं।

त्योहारों के इस मौसम में बाजारों में भी रौनक धीरे-धीरे लौट रही है। लेकिन हमें ये भूलना नहीं है कि लॉकडाउन भले चला गया हो, वायरस नहीं गया है।

पीएम मोदी ने कहा कि, आज भारत के अंदर रिकवरी रेट अच्छी है, फेटेलिटी रेट कम है। दुनिया के साधन-संपन्न देशों की तुलना में भारत अपने ज्यादा से ज्यादा नागरिकों का जीवन बचाने में सफल हो रहा है। कोविड महामारी के खिलाफ लड़ाई में टेस्ट की बढ़ती संख्या हमारी एक बड़ी ताकत रही है।

हमें कोरोना से अपनी लड़ाई को कमजोर नहीं पड़ने देना

बीते कुछ दिनों में हमने बहुत सी तस्वीरें, वीडियो देखे हैं जिनमें साफ दिखता है कि कई लोगों ने अब सावधानी बरतना बंद कर दिया है। ये ठीक नहीं है।

सभी लोगों को ये बात हमेशा ध्यान रखनी है कि जब तक इस महामारी की वैक्सीन नहीं आ जाती, हमें कोरोना से अपनी लड़ाई को कमजोर नहीं पड़ने देना है। यह भी पढ़ें: चीन की खुलेआम धमकी, कहा- ‘ सिक्किम से लेकर पूरे पूर्वोत्तर भारत में घोल देगा अलगाववाद का जहर’

क्योंकि आज अमेरिका हो, या फिर यूरोप के दूसरे देश, इन देशों में कोरोना के मामले कम हो रहे थे, लेकिन अचानक से फिर से तेजी से सामने आने लगे है। ऐसे में जब तक सफलता पूरी न मिल जाए, लापरवाही किसी भी स्तर पर नहीं बरती जानी चाहिए। यह भी पढ़ें: जानिए कौन है खुशबू सुन्दर, कैसे खुशबू का बीजेपी में आना हो सकता है फायदेमंद


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply