कोझिकोड विमान हादसे में पायलट की सूझबूझ से बची यात्रियों की जान

Air India Express Crash: How 'Hero' Captain Deepak Sathe Saved Hundreds of Lives
Image Credit: india.com

केरल के कोझिकोड में शुक्रवार शाम वन्दे भारत मिशन के तहत दुबई से भारत आ रहे एयर इंडिया का विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। विमान में क्रू मेम्बर सहित 191 यात्री सवार थे। हादसे में दोनों पायलट सहित 17 लोगों की मौत हो गई जबकि 123 घायल हो गए।

रिपोर्ट्स के मुताबिक खराब मौसम के चलते लैंडिंग से पायलट ने आसमान में चक्कर लगाए। टेबलटॉप रनवे पर लैंड होते वक़्त  बोइंग 737 विमान भारी बारिश के चलते फिसल कर 35 फीट गहरी खाई में जा गिरा, जिससे उसके दो टुकड़े हो गए। इस हादसे में पायलट कैप्टन दीपक वसंत साठे और को-पायलट अखिलेश कुमार ने भी जान गंवा दी। कैप्टन साठे ने हादसे के ठीक पहले विमान का इंजन बन्द कर दिया था जिससे क्रैश लैंडिंग के दौरान विमान में आग न लगे। इस सूझबूझ से कई यात्रियों की जान बच गई।

कैप्टन साठे देश के बेहतरीन पायलटों में से एक थे। उन्होंने 22 साल तक विंग कमांडर के रूप में इंडियन एयरफोर्स में अपनी सेवा दी। उन्होंने मिग-21 जैसे लड़ाकू विमान भी उड़ाए। उन्हें सोर्ड ऑफ ऑनर से भी नवाजा गया था। 2003 में वह एयरफोर्स से रिटायर हो गए थे। इसके बाद उन्होंने एयरलाइन कंपनियों में अपने अनुभव से मदद करना शुरू कर दिया था।

बता दें कि यह दुर्घटना वर्ष 2010 में हुए मैंगलोर हवाई दुर्घटना के एक दशक बाद हुई है, जिसमें लगभग समान पारिस्थितियाँ निर्मित हुई थीं।

Leave a Reply