स्विट्जरलैंड में 14,690 फीट के पहाड़ को रोशनी द्वारा भारतीय तिरंगे की आकृति दी गई

14,690 feet mountain in Switzerland is shaped by Indian tricolor
photo credit: news18hindi

आज कई देश कोरोना वायरस से जंग लड़ रहे है, इन देशों में हमारा भारत भी है जो कोरोना के ख़िलाफ़ जंग में शामिल है। कोरोना संकट से निपटने के लिए भारत सरकार के फैसले की दुनिया के कई देश भी तारीफ भी कर चुके हैं। इस बीच स्विस आल्प्स के मैटरहॉर्न पर्वत पर रोशनी की मदद से भारतीय तिरंगे को प्रदर्शित किया गया है और इसके जरिए कोरोना महामारी से जीतने की उम्मीद और जज्बे का संदेश दिया गया है। मशहूर स्विस लाइट आर्टिस्ट गेरी हॉफस्टेटर ने 14,690 फीट के पहाड़ को तिरंगे के आकार की रोशनी दी है। भारतीय विदेश सेवा अधिकारी गुरलीन कौर ने यह तस्वीर अपने ट्विटर हैंडल में भी शेयर किया है।

यह भी बता दें कि इस पहाड़ पर बीते 24 मार्च से ही कोरोना महामारी के खिलाफ दुनिया की एकता प्रदर्शित करने के लिए हर दिन अलग-अलग देशों के राष्ट्रीय ध्वजो को रोशनी द्वारा प्रदर्शित किया जा रहा है। हालही में बुधवार को इस पहाड़ पर स्विटज़रलैंड, संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, इटली और स्विस क्षेत्र टिसिनो के राष्ट्रीय ध्वजो को रोशनी के माध्यम से प्रदर्शित किया गया है। लाइट आर्टिस्ट गेरी हॉफस्टेटर ने कहा कि , ‘प्रकाश का मतलब आशा और उम्मीद होता है और ऐसे समय में जब दुनिया कोरोना जैसे संकट का सामना कर रही है तब उनके हौसले को सलाम करने के लिए ऐसा किया गया है, ताकि ये संदेश पूरी दुनिया में जाये कि, इस महामारी के खिलाफ हम एक साथ मिल कर लड़ रहे है और इस लड़ाई में हम कामयाब होंगे.’

स्विट्जरलैंड में COVID-19 से अब तक 18,000 से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं और 430 लोगों की जान भी जा चुकी है। इस वायरस के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए सरकार ने स्कूलों, बार, रेस्तरां और गैर जरूरी चीजों की दुकानें बंद कर दी हैं, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन सही तरीके से हो सके। यदि दुनिया की बात करे तो, दुनियाभर में शुक्रवार को कोरोना के 86,198 नए केस सामने आए और जिसके बाद कुल मामलों की संख्या बढ़कर 22,48,500 से ज्यादा हो गयी है। कल का दिन भी कोरोना (Coronavirus) से हो रही मौतों के हिसाब से खराब साबित हुआ और दुनिया भर में 7382 लोगों ने अपनी जान गंवा दी है।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply