2000 के नोट की अफवाहों पर सरकार ने लगाया पूर्ण विराम, जानिए पूरी ख़बर

2000 के नोट की अफवाहों पर सरकार ने लगाया पूर्ण विराम, जानिए पूरी ख़बर
2000 के नोट की अफवाहों पर सरकार ने लगाया पूर्ण विराम, जानिए पूरी ख़बर (Image credit: PTR News)

2016 में हुई नोटबंदी के बाद शुरू किये गये 2000 रुपये के नोट को लेकर कई बार अफवाहें सामने आ चुकी हैं। इन अफवाहों पर सरकार को बार-बार सफाई देनी पड़ती है।

इतना ही नहीं 2000 रुपये के नोट को बंद करने की अफवाह पर सरकार पहले भी कई बार सफाई दे चुकी है। एक बार फिर इसी मामले में से सरकार की तरफ से जवाब दिया गया है। 

दरअसल इन दिनों अफवाह है कि 2000 के नोट की छपाई सरकार द्वारा बंद कर दी गई जिस पर सरकार ने प्रतिक्रया देते हुए अफवाहों पर पूर्ण विराम लगाया है।

शनिवार को लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में, वित्त राज्य मंत्री, अनुराग ठाकुर ने कहा कि किसी विशेष मूल्यवर्ग के बैंक नोट को छापने को फैसला सरकार, भारतीय रिजर्व बैंक से परामर्श लेकर करती है।

2019-20 और 2020-21 के दौरान, प्रेस से 2,000 रुपये के नोट छापने का कोई ऑर्डर नहीं मिला है, हालांकि सरकार की ओर से 2,000 रुपये के नोट को ना जारी रखने का कोई फैसला नहीं लिया गया है।

अनुराग आगे कहते हैं कि, 2,000 रुपये के मूल्यवर्ग के कुल 273.98 करोड़ नोट 31 मार्च, 2020 तक प्रचलन में थे। जबकि 31 मार्च, 2019 में ये संख्या 329.10 करोड़ रुपये थी।

वित्त राज्य मंत्री ने बताया कि, भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से सूचित किया गया था कि कोविड-19 महामारी से बचाव और रोकथाम के लिए लगाए गए लॉकडाउन की वजह से स्थायी रूप से 2,000 रुपये के नोट की छपाई रोक दी गई थी।

लेकिन केंद्र और राज्य सरकारों की ओर से जारी गाइडलाइंस के आधार पर प्रेस ने चरणबद्ध तरीके से नोटों की छपाई करना शुरू कर दिया था।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply