भारतीय नौसेना के इतिहास में पहली बार दो महिला अफसर होंगी वॉरशिप पर तैनात

k33g4kh4
भारतीय नौसेना के इतिहास में पहली बार दो महिला अफसर होंगी वॉरशिप पर तैनात (image credit- Ndtv)

लगातार बढ़ते कोरोना वायरस के बीच भारतीय नौसेना के इतिहास में पहली बार दो महिला अफसर सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह को वॉरशिप पर तैनात किया जाएगा। इससे पहले भी महिलाएं दुनिया के हर क्षेत्र में ख़ुद को साबित कर रही हैं और अपनी क़ामयाबी के झंडे गाड़ रही हैं। लेकिन अभी भी बहुत सारे क्षेत्र ऐसे हैं, जिनसे महिलाओं को दूर रखा गया है। कल तक नौ सेना में किसी महिला का पायलट होना एक दूर की सोच थी लेकिन अब से यह आम बात हो गयी है।

दरअसल, सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह, दोनों को हेलिकॉप्टर स्ट्रीम में ऑब्जर्वर (एयरबोर्न टैक्टिशियंस) के पद में शामिल होने के लिए चुना गया है। इतना ही नहीं, अंबाला में भारतीय वायुसेना के राफेल स्क्वॉड्रन को पहली महिला फाइटर पायलट जल्द मिल जाएगी। इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक, वायुसेना की 10 महिला फाइटर पायलट प्रशिक्षण से गुजर रही हैं। इनमें से एक 17 स्क्वाड्रन के साथ राफेल जेट उड़ाएगी।

17 अफसरों को ‘विंग्स’ से किया गया सम्मानित

सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह समेत 17 अफसरों को सोमवार को ‘ऑब्जर्वर’ के रूप में स्नातक होने पर विंग्स से सम्मानित किया गया। यह कार्यक्रम कोच्चि में आइएनएस गरुड़ पर हुआ। इनमें 13 अफसर रेगुलर बैच से हैं और चार महिला अफसर शॉर्ट सर्विस कमीशन से हैं। यह अफसर भारतीय नौसेना और भारतीय तटरक्षक बल के समुद्री टोही जहाजों और पनडुब्बी-रोधी जंगी जहाजों में तैनात होंगे।

वहीं प्रोग्राम में रियर एडमिरल एंटनी जॉर्ज ने कहा था कि यह एक ऐतिहासिक अवसर है। इनमें पहली बार महिलाओं को हेलिकॉप्टर ऑपरेशन की ट्रेनिंग दी जा रही है। 91 वें रेगुलर कोर्स और 22 वें एसएससी ऑब्जर्वर कोर्स के अफसरों को एयर नेविगेशन, फ्लाइंग प्रोसिजर, एयर वॉरफेयर, एंटी-सबमरीन वॉरफेयर का प्रशिक्षण दिया गया।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply