ब्रिटिश प्रधानमंत्री को ईमेल लिख दिल्ली की महिला ने दी आत्महत्या की चेतावनी, रात भर तलाश करती रही पुलिस

Delhi: 3-hour search by cops after woman mails UK PM Boris Johnson about  suicide | Cities News,The Indian Express
ब्रिटिश प्रधानमंत्री को ईमेल लिख दिल्ली की महिला ने दी आत्महत्या की चेतावनी, रात भर तलाश करती रही पुलिस (Image Credit: The Indian Express)

दिल्ली की एक 43 वर्षीय महिला ने ब्रिटिश के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को ईमेल लिखते हुए कहा कि 2 घंटे आत्महत्या कर लूंगी। ब्रिटिश पीएमओ ने यह मेल तुरंत ही दिल्ली पुलिस को भेजा। ब्रिटिश पीएमओ से मेल मिलने के बाद दिल्ली पुलिस मुख्यालय और रोहिणी थाने के अफसरों ने आधी रात को ही जांच पड़ताल शुरू कर दी। पुलिस का कहना है कि दिल्ली की 43 वर्षीय महिला ने रात 11 बजे ब्रिटिश प्रधानमंत्री को ईमेल भेजा ईमेल में वह महिला लिखती है कि, “में व्यथित हूं… अगर कोई मेरी मदद करने नहीं आया, तो अगले 2 घंटे में आत्महत्या कर लूंगी।” पुलिस का कहना है कि ईमेल में महिला ने अपना पता और फोन नंबर भी लिखा था।

रोहिणी पुलिस थाने के डीसीपी पीके मिश्रा का कहना है कि जैसे ही ब्रिटिश पीएम को महिला का मेल मिला, वैसे ही लंदन में भारतीय दूतावास को उसी वक्त मेल भेजा गया। ईमेल मिलते ही नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय से संपर्क किया गया। विदेश मंत्रालय के अफसरों ने दिल्ली पुलिस कंट्रोल रूम और पुलिस हेडक्वार्टर को इस विषय में सूचना दी। दिल्ली पुलिस ने रोहिणी थाने को खबर की और सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया।

डीसीपी का कहना है कि उनके पास रात को 1 बजे फोन और ईमेल आया था। जिसमें उस महिला के बारे में बताया गया और जल्द से जल्द उसे बचाने के लिए कहा गया। महिला के द्वारा मेल में लिखा गए उसके मोबाइल नंबर पर सपर्क करने की कोशिश की गई, पर महिला ने उनका कॉल नहीं लिया। डीसीपी का कहना है कि महिला द्वारा दिए गए उस मोबाइल नंबर के ज़रिए इस महिला का पता लगाने के लिए टीमें भेजी गई। समय भी एक मुद्दा था। महिला का पता लगाने के लिए अमन विहार पुलिस स्टेशन के एसएचओ एक टीम के साथ सेक्टर 21 रोहिणी पहुंचे।

जो टीमें उस महिला को ढूंढ रही थी। उनमें से ही एक पुलिसकर्मी ने बताया कि, “महिला के द्वारा भेजे गए मेल मै पता पूरा ना होने के कारण टीम ने उस इलाके में 40 से अधिक घरों में जांच पड़ताल की। पुलिस ने उस इलाके के निवासियों को सतर्क किया और सुरक्षागार्डों से मदद मांगी। इसी दौरान उन्हें एक घर मिला, उस घर के मालिक ने घर का गेट खोलने से इनकार कर दिया।” पुलिस का कहना है कि उस मकान से एक महिला के चीखने चिल्लाने के आवाज़ सुनाई दी।

महिला कह रही थी कि, ” यहां से चले जाओ।” उस घर का दरवाज़ा नहीं खुलने की वजह से पुलिस ने दरवाज़ा तोड़ने के लिए फायर ब्रिगेड को बुलाया। पुलिस ने घर में प्रवेश किया और देखा ही वह महिला हॉल में खड़ी है। घर में बहुत गंदगी थी और कूड़े का ढेर था। साथ ही उस घर में 16 से अधिक बिल्लियां भी थी। महिला इन पुलिसकर्मियों के देख कर चौक गई और उनसे माफी मांगने लगी। पुलिस को महिला की मानसिक स्थिति ठीक नहीं लगी।

पुलिस ने एक महिला कांस्टेबल को बुला कर उस महिला से पूछताछ शुरू की। महिला कांस्टेबल पुलिस ने बताया कि, ” वह महिला रोने लगी और कहने लगी कि यह बिल्लियां ही उसका परिवार है। पुलिस महिला कांस्टेबल ने उस महिला से उसके पति और परिवार के बारे में पूछा तब उसने कहा कि वह तलाकशुदा है और पिछले 10 वर्षों से अकेली रहती है। उस महिला ने एमसीडी शिक्षक के तौर पर काम किया है। पिछले 2-3 साल से वह भी छोड़ दी है।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply