फर्जी आयकर अधिकारी बनकर ठगी करने के इरादे से आए दोनों आरोपी और गिरोह का सरगना गिरफ्तार, खुद परिजनों ने किया पुलिस के हवाले

फर्जी आयकर अधिकारी गिरोह का सरगना मुनीष वर्मा, जिसने दो युवतियों को प्रशिक्षण देकर जींद भेजा था।
फर्जी आयकर अधिकारी बनकर ठगी करने के इरादे से आए दोनों आरोपी और गिरोह का सरगना गिरफ्तार, खुद परिजनों ने किया पुलिस के हवाले (Image Credit: Amar Ujala)

हरियाणा के जिंद में रवि ज्वेलर्स नामक दुकान पर ठगी करने के इरादे से आईं दो महिला आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिए है। यह महिलाएं फर्जी आयकर अधिकारी बनकर दुकान पर छापा मारकर लौट के इरादे से दुकान में दाखिल हुईं थीं। दोनों महिला आरोपी को ठगी की ट्रेनिंग देने वाले गिरोह के तीसरे आरोपी मुनीष वर्मा को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। रविवार को स्वयं मुनीष के परिजनों ने उसे पुलिस के हवाले कर दिया।

बता दें कि, 19 अगस्त को दोनों महिलाएं ठगी करने के इरादे से आयकर अधिकारी बनकर दुकान में दाखिल हुईं। जब कुछ समय बाद दुकानदार को दोनों पर शक हुए तो उसने पुलिस को फोन कर जानकारी दी। जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंच कर दोनों महिलाओं को गिरफ्तार कार लिया था। गिरफ्तारी के बाद गुरुवार, 20 अगस्त को दोनों आरोपी महिलाओं को कोर्ट में पेश किया गया था। कोर्ट ने दोनों को ही 4 दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया था।

जांच टीम का हिस्सा रहे एसआईटी प्रभारी डीएसपी जीतेन्द्र सिंह ने बताया कि मुनीष वर्मा लंबे समय से दिल्ली में सट्टेबाजी कर रहा था। इसके बाद उसने दिल्ली की ही शाहदरा की रहने वाली स्वाति को अपने साथ शामिल कर लिया। इसके बाद दोनों ने मिलकर इंश्योरेंस के नाम पर लोगों से ठगी करने का काम भी शुरू कर दिया था। मुनीष और स्वाति उन लोगों का डाटा एकत्र करते थे, जिनकी पुलिस अधूरी थी। इसके बाद लोगों से संपर्क कर पॉलिसी के नाम पर पैसों कर ठगी कर अपने अकाउंट में ट्रांसफर कर लिया करते थे।

दोनों के इस काम में जींद की रहने वाली श्वेता भी शामिल थी। लॉकडाउन के दौरान इन्होंने अन्य साथियों के साथ मिलकर अधिकारी बन ठगी करने का काम शुरू कर दिया था। मुनीष ने इस काम के लिए श्वेता और स्वाति को चुना था। महिला होने के कारण लोग संदेह भी नहीं करते थे। आरोपियों ने इंश्योरेंस के नाम पर ठगी कर लोगों के 30 लाख रुपए हड़प लिए थे।

आरोपियों ने यह पैसा घूमने फिरने और शराब पीने में खर्च कर दिया था। मुनीष वर्मा रिश्ते में स्वाति का मौसेरा भाई लगता है। वह उसकी चाची की बहन का लड़का है। रिश्तों में भाई-बहन होने के कारण और ठगी के व्यापार को आगे बढ़ाने के लिए मुनीष ने स्वाति को अपने गिरोह में शामिल किया था। स्वाति और श्वेता दोनों पीजी ने रहती थीं, वहीं मुनीष का दिल्ली में का अपना फ्लैट है।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *