एप्पल खोलने जा रहा है भारत में अपना खुद का रिटेल स्टोर

भारत में बढ़ते हुए मोबाईल उपभोक्ताओं को देखते हुए बड़ी-बड़ी मोबाईल कंपनियां भारत में आ रही है और निवेश कर रही है। सभी बड़ी कंपनियां जिनके ग्राहक बड़ी संख्या में भारत में है उन कंपनियों के खुद के भारत में अपने रिटेल स्टोर है। सिर्फ एप्पल एक मात्र ऐसी मोबाईल निर्माता कंपनी हैं जिसका भारत में खुद का रिटेल स्टोर नहीं है। वह किसी अन्य ई-कॉमर्स बेबसाइट की मदद से अपने मोबाइलों की बिक्री भारत में करता है। अब अपने ग्राहकों को मद्देनजर रखते हुए एप्पल भारत में अपना खुद का रिटेल स्टोर खोलने की तैयारी कर रहा है। इसकी अधिकारिक घोषणा एप्पल के सीईओ टिम कुक ने की, उन्होंने कहा कि भारत में एपल का पहला स्टोर 2021 में खुल जाएगा।

Image result for apple retail store india
Image credit: GIZMOLEAD

एप्पल का सबसे बड़ा ऑफिस अमेरिका के न्यूयार्क में है। जहां बड़ी संख्या में एप्पल के ग्राहक है। भारत ही एकमात्र ऐसा देश है जहां इसके ग्राहको की संख्या तो ज्यादा है लेकिन अपना एप्पल स्टोर नहीं है। स्टोर खोलने के बारे में सीईओ टिम कुक ने कहा ”इसी साल कंपनी अपना ऑनलाइन स्टोर भी ओपन करने वाली है। कैलिफोर्निया में चल रहे कंपनी के सालाना शेयरहोल्डर मीटिंग के दौरान टिम कुक ने भारत को लेकर अपने प्लान के बारे में बताया है।”

एप्पल को भारत सरकार से बिना किसी लोकल पार्टनर के भारत में स्टोर खोलने की इजाजत लेनी होगी। हालांकि अभी साफ नहीं है कि भारत का पहला ऐपल स्टोर किस शहर में खोला जाएगा। उम्मीद की जा सकती है कि मुंबई में कंपनी अपना पहला रीटेल स्टोर ओपन करेगी। ऐप्पल ने यह भी कहा अगर हमारा यह स्टोर सफल रहा तो हम 5-10 के अंदर भारत की सब मेट्रो सिटी में अपना रिटेल स्टोर खोलेंगे।

भारत में आईफोन की करीब 30 फीसदी बिक्री ई-कॉमर्स स्टोर जैसे फ्लिपकार्ट और अमेजन से होती है। भारत में साल 2019 में 1.9 मिलियन यूनिट आईफोन की शिपमेंट हुई है। एप्पल अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में सबसे तेजी से बढ़ने वाला ब्रांड रहा है। साल 2018 में 1.8 मिलियन यूनिट की शिपमेंट हुई थी। अमेरिका की दिग्गज कंपनी एप्पल समेत विदेशी कंपनियों के लिए भारत एक बड़ा बाजार है।

रिसर्च फर्म काउंटरपॉइंट की एक रिपोर्ट के अनुसार ग्रोथ को बरकरार रखने के लिए भारत एक बड़ा बाजार है लेकिन देश में अधिकतर लोग एप्पल के उत्पाद खरीदने में सक्षम नहीं हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में बिकने वाले अधिकांश स्मार्टफोन 150 डॉलर या इससे कम के प्राइस वाले होते हैं।

इन सबके आलावा भारत में पहले एप्पल स्टोर न खोलने के पीछे सरकार की भी नितियां थी। भारत का एक नियम था कि 51% से अधिक विदेशी निवेश के लिए एकल ब्रांड कंपनियों को अनिवार्य रूप से अपने उत्पादों का 30% स्थानीय स्तर पर स्रोत होना चाहिए। हालांकि, पिछले साल सरकार ने उस मानक को हटा दिया और एप्पल जैसी कंपनियों को पहली बार अपने आउटलेट्स खोलेने के लिए बिना अपने उपकरणों को बेचने की अनुमति दी है। जिससे एप्पल के लिए स्टोर खोलने का रास्ता साफ हो गया है।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply