पिता के इलाज के लिए दर-दर भटक रहीं एसिड अटैक सर्वाइवर, ‘छपाक’ में दीपिका संग किया था काम

कोरोना वायरस के कारण देशभर में किए गए लॉकडाउन से संक्रमण के मामले तो कम हो रहे हैं, लेकिन इस लॉकडाउन की वजह से कुछ लोगों को मुसीबत भी झेलनी पड़ रही है। दीपिका पादुकोण की फिल्म ‘छपाक’ में काम कर चुकीं एसिड अटैक सर्वाइवर जीतू शर्मा के पिता को कैंसर है और लॉकडाउन के कारण उनके इलाज में काफी परेशानी आ रही है। जीतू अलीगढ़ के बरौला जाफराबाद इलाके में रहती हैं। उनके पिता गले के कैंसर से जूझ रहे हैं और उनके इलाज के लिए जीतू को काफी मुश्किलें उठानी पड़ रही हैं। मौत से जूझ रहे अपने पिता को बचाने के लिए जीतू संघर्ष कर रही हैं, लेकिन कोई भी उनकी फरियाद नहीं सुन रहा है।

Acid attack survivor, who worked with Deepika in Chhapaak, pleads ...
Image Credit : NDTV

पिता के इलाज के लिए भटक रहीं जीतू

जीतू के पिता सोमदत्त शर्मा उत्तर प्रदेश पुलिस में हेड कॉन्स्टेबल हैं और फिलहाल मैनपुरी में पोस्टेड हैं। उन्हें जनवरी में गले में कैंसर होने के बारे में पता चला। उनका इलाज नोएडा के निजी अस्पताल में चल रहा था। जीतू ने बताया, ‘पिछले पांच दिनों में मेरे पिता की हालत बहुत खराब हो गई है। वह पानी तक नहीं निगल पा रहे हैं।’ जीतू ने आगे बताया, ‘नोएडा के जेपी अस्पताल में जनवरी से उनका इलाज चल रहा था। लॉकडाउन के कारण पिछले कुछ समय में मैं उन्हें इलाज के लिए नोएडा नहीं ले जा पाई। मैंने मदद के लिए जिला प्रशासन के हेल्पलाइन नंबर 112 पर फोन किया तो उन्होंने कहा कि आपको किसी और जगह कैसे ले जाया जा सकता है, कृपया पुलिस स्‍टेशन जाइए। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के मेडिकल कॉलेज ने भी उन्हें भर्ती करने से इनकार कर दिया, क्योंकि वहां नए मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है।’

मदद के लिए लिया ट्विटर का सहारा

जीतू के मुताबिक, ‘उनके पिता का आखिरी कीमो सेशन मार्च में किया गया था और अगला सेशन 26 मार्च को किया जाना था। लॉकडाउन होने के कारण इसे आगे बढ़ा दिया गया था। उन्होंने बताया, मैंने जिला प्रशासन और पुलिस से भी संपर्क किया था, लेकिन कोई मदद नहीं मिली। उन्होंने मुझे टैक्सी किराए पर लेकर खुद नोएडा जाने को कहा।’ जीतू ने अपने पिता की इस हालत के बारे में ट्विटर पर एक पोस्ट भी किया है और उसमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और अलीगढ़ के डीएम को टैग किया है। जीतू के इस पोस्ट के जवाब में अलीगढ़ के डीएम चंद्र भूषण सिंह ने पोस्ट किया, ‘कैंसर पेशेंट की बेटी को अलीगढ़ के सिटी मजिस्ट्रेट के पास एप्लीकेशन देने को कहा गया है। इसके बाद उन्हें अपने पिता को इलाज के लिए दूसरे शहर ले जाने की इजाजत मिल जाएगी।’ उत्तर प्रदेश सरकार ने भी कहा है कि मेडिकल इमरजेंसी की सूरत में यात्रा करने के लिए ई-पास की व्यवस्था की गई है।

आर्थिक संकट से भी जूझ रहा परिवार

जीतू की मुश्किलें यहीं खत्म नहीं होतीं। इस वक्त उनका परिवार पैसों की कमी का भी सामना कर रहा है टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक बताया जा रहा है कि कागजों में एंट्री नहीं कराने के कारण मैनपुरी पुलिस ने जीतू के पिता को चार महीने से सैलरी भी नहीं दी है। बताया जा रहा है कि दिसंबर में उनकी तैनाती मैनपुरी पुलिस लाइन में हुई। यहां से उन्हें एक थाने में भेजा गया, लेकिन गले में तेज दर्द होने के कारण वह ज्वाइन नहीं कर पाए। जीतू के पिता ने जांच कराई तो उनको गले की खाने की नली में थर्ड स्टेज का कैंसर बताया गया। जीतू पिता की तनख्वाह दिलाने के लिए डीजीपी को पत्र लिख रही हैं। उनका यह भी कहना है कि नोएडा के अस्‍पताल ने आगे के इलाज से पहले पिता की निगेटिव कोरोना वायरस रिपोर्ट भी मांगी है।

Jeetu Sharma Is Helpless For Her Father Treatment
Image Credit : Amar Ujala

‘छपाक’ में बनी थीं दीपिका की दोस्त

जीतू शर्मा पर 2014 में तेजाब हमला हुआ था। उस वक्त वह सिर्फ 17 साल की थीं। 55 साल के एक शख्स ने उन पर तेजाब फेंका था और वह अक्सर उनका पीछा भी करता था। जीतू ने पिछले साल आई दीपिका पादुकोण की फिल्म ‘छपाक’ में भी काम किया था। फिल्म में वह दीपिका की फ्रेंड के किरदार में नजर आई थीं। यह फिल्म एसिड अटैक सर्वाइवर्स की जिंदगी और उनके संघर्ष पर बनी थी। जीतू के घर में दो बहन, आठ साल का एक छोटा भाई और मां हैं। ऐसे में पिता के इलाज की जिम्मेदारी उन पर ही आ पड़ी है।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *