उत्तर प्रदेश के इस जिले में मिली सोने की खदान, जिसकी कीमत लगभग 12 लाख करोड़ रुपये है

भारत को पहले सोने की चिड़िया कहा जाता था। पूरे विश्व में भारत में सबसे ज्यादा सोना पाया जाता था। अब एक बार फिर भारत में सोने की खदान मिली है। जिसमें लगभग 3,000 टन सोना मिलने की बात कहीं जा रही है। यह सोना उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले की खदान में मिला है। सोनभद्र में खुदाई में सोने निकलने के बाद पूरे विश्व की निगाहें भारत पर है। जिसके बाद से लगातार सोनभद्र सोशल मीडिया पर ट्रेडिंग कर रहा है।

Image result for उत्तर प्रदेश के इस जिले में मिली सोने की खदान, जिसकी कीमत लगभग 12 लाख करोड़ रुपये है
Image credit: पंकज केसरी

शुक्रवार को जिला खनन अधिकारी के के राय ने बताया किसोन पहाड़ी और हरदी इलाकों में सोने के भंडार मिले है। सोने के भंडार का पता लगाने का काम पिछले दो दशक से चल रहा था। इन ब्लॉक की ई-टेंडरिंग के माध्यम से नीलामी की प्रक्रिया जल्द ही शुरू होगी।सोना पहाड़ी में करीब 2943.26 टन और हरदी ब्लॉक में 646.16 टन सोना मिला है। जो अभी में मौजूदा सोने से पांच गुना ज्यादा है।इसकी अनुमानित कीमत करीब 12 लाख करोड़ रुपये है। फिलहाल भारत में 625 टन सोना है। इसके बाद सोन पहाड़ी और इसके आसपास वाले इलाके में रहने वाले लोगों को इसका कितना फायदा मिलेगा। क्या आसपास रहने वाले आदिवासियों की गरीबी दूरी होगी या खनन के दौरान रोजगार मिलने से इनकी सेहत में सुधार होगी।

इस बारे में सोनभद्र जिले के जिलाधिकारी ने एन राजलिंगम ने बताया ”जिले की जिस पहाड़ी में सोना मिला है, वो  क़रीब 108 हेक्टेयर  क्षेत्रफल का इलाका है। सोन की पहाड़ियों में मौजूद तमाम क़ीमती खनिज संपदा होने की वजह से पिछले 15 दिनों से इस इलाक़े का हेलिकॉप्टर सर्वेक्षण किया जा रहा है।”

आपको शायद यह जानकर हैरानी होगी कि इस जगह का संबंध रामयाण काल से है। जिन दो जगहों पर सोना मिला है वहां पर पहले से इसको लेकर चर्चा चल रही थी। इसके पहले कई बार इस जगह पर सोने पाए जाने की खबर बताई गई थी। सोन पहाड़ी को शिव पहाड़ी के नाम से भी जाना जाता है। इस जगह पर सोने के आलावा अन्य खनिज पदार्थ भी खुदाई के दौरान मिले।

अभी भारत के पास जितना सोना है वह विश्व के कुल सोने का 6.6 % हिस्सा है। इसके हिसाब से भारत सोने की आपूर्ति के मामले में विश्व में 9वें नंबर पर है। अब इस खदान के मिलने से भारत की सोने की आपूर्ति में वृद्धि होगी।

लगभग पिछले पद्रंह बीस साल से जियोलॉजिकल सर्वे आॅफ इंडिया यानी जीएसएआई की टीम इस खोज में जुड़ी हुई थी। अब सोने की खदान मिलने के बाद सरकार ने इस टीले को बेचने के लिए ई-निलामी प्रक्रिया शुरु कर दी है। ई-टेंडरिंग को हरी झंडी मिलने के बाद खनन की अनुमति मिलेगी। इस जगह के आलावा भारत में कई अन्य जगहों पर भी सोने की खदान मिलने की बातें कहीं गई है जिनमें मध्य प्रदेश के सिंगरौली ज़िले, यूपी के ही बलरामपुर और झारखंड के गढ़वा ज़िले शामिल हैं।


यह भी पढ़े:

Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply