लॉकडाउन के बीच गूगल मैप्स पर दिखेंगे रैन बसेरे और फूड शेल्टर्स

कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए देश में चल रहे 21 दिन के लॉकडाउन के बीच गूगल मैप्स ने 30 शहरों में सार्वजनिक रैन बसेरों और फूड शेल्टर्स की जानकारी अपने प्लेटफॉर्म पर दिखानी शुरू की है। कोरोना महामारी के प्रकोप के बीच की गई इस पहल का मकसद नागरिकों की मदद करना है। फिलहाल यह सुविधा सिर्फ अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध है, लेकिन गूगल इसे हिंदी में शुरू करने पर भी काम कर रहा है।

Google Maps to show locations of COVID-19 food and night shelters ...
Image Credit : LiveMInt

गूगल मैप्स करना होगा इन्स्टॉल

इस सुविधा का इस्तेमाल करने के लिए और अपने आसपास के रैन बसेरों और फूड शेल्टर्स को ढूंढ़ने के लिए यूजर्स को अपने स्मार्टफोन पर गूगल मैप्स इन्स्टॉल करना पड़ेगा। इसके अलावा, यह सुविधा स्मार्टफोन के गूगल सर्च और गूगल असिस्टेंट पर भी उपलब्ध होगी। इसका लाभ आप KaiOS आधारित फीचर फोन पर भी उठा सकते हैं, जैसे जियो फोन। गूगल ने एक बयान में कहा कि वह फूड शेल्टर्स और रैन बसेरों की जानकारी के लिए राज्य व केंद्र सरकार के अधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रहा है। नागरिकों की मदद के लिए बने सरकारी प्लेटफॉर्म MyGov के ट्विटर अकाउंट के जरिए रविवार को इसकी जानकारी दी गई। गूगल ने भी सोमवार को प्रेस विज्ञप्ति जारी कर इसकी पुष्टि की।

बेहद आसान है नया फीचर

गूगल मैप्स के इस नए फीचर का इस्तेमाल बेहद आसान है। इसके लिए आपको सिर्फ गूगल मैप्स, गूगल सर्च या फिर गूगल असिस्टेंट पर जाकर ‘Food shelters in’ और ‘Night shelters in’ लिखकर और अपने शहर का नाम डालकर सर्च करना है और रिजल्ट तुरंत आपको मिल जाएगा। फिलहाल यह सुविधा अंग्रेजी भाषा में ही है, लेकिन आने वाले दिनों में आप इसे हिंदी भाषा में भी इस्तेमाल कर पाएंगे।

फीचर फोन में भी मिलेगी सुविधा

जिन लोगों को फूड शेल्टर्स या रैन बसेरों की जरूरत पड़ती है, उनमें से ज्यादातर लोगों के पास स्मार्टफोन नहीं होता। ऐसे जरूरतमंद लोग इस सुविधा का इस्तेमाल कैसे करें, इसके लिए गूगल ने इस सुविधा को जियो फोन जैसे फीचर फोन के लिए भी उपलब्ध कराया है। जियो फोन में गूगल असिस्टेंट एक्सेस मौजूद होता है, जिसके जरिए इस सुविधा का इस्तेमाल किया जा सकता है। गूगल इसमें न केवल ज्यादा भाषाओं को शामिल करने पर काम कर रहा है, बल्कि आने वाले दिनों में इसमें और शहरों के शेल्टर्स को भी जोड़ा जाएगा।

Google Maps to show locations of COVID-19 food and night shelters ...
Image Credit : Pune Mirror

जरूरतमंदों की मदद की कोशिश

गूगल इंडिया के सीनियर प्रोग्राम मैनेजर अनल घोष का कहना है कि जरूरतमंदों तक इस सुविधा की जानकारी पहुंचाने के लिए एनजीओ, ट्रैफिक अथॉरिटी, वॉलंटियर्स का सहारा लिया जा रहा है, ताकि यह जरूरी सुविधा हर उस जरूरतमंद तक पहुंचे, जिसके पास स्मार्टफोन न हो। उन्होंने कहा कि कोरोनावायरस से पैदा हुई परिस्थितियों को देखते हुए हम लगातार ऐसे समाधान प्रस्तुत करने में लगे हैं जिनसे इस वक्त आम लोगों को मदद मिल सके।

दिल्ली सरकार ने भी दी थी जानकारी

इससे पहले मार्च में दिल्ली की आम आदमी पार्टी (आप) सरकार ने भी गूगल मैप्स पर अपने हंगर रिलीफ सेंटर की जानकारी देनी शुरू की थी। इन सेंटर्स पर दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक दोपहर का खाना और शाम 6 बजे से रात नौ बजे तक रात का खाना मुफ्त मिलता है।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply