ईथरियम के को-फाउंडर विटालिक बुटेरिन ने भारत के कोविड रिलीफ फंड में दान किए 7 हजार करोड़ रुपए

हमारा देश इस वक्त सदी के सबसे बड़े संकट यानी कोरोना महामारी से जूझ रहा है। कोरोना वायरस की वजह से देश के कई बड़े शहरों में हालात चिंताजनक बने हुए हैं। अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन की कमी के कारण रोजाना हजारों लोग मौत के मुंह में समा रहे हैं। संकट के इस दौर में भारतीयों के साथ-साथ विदेशी भी भारत की मदद कर रहे हैं। अमेरिकाफ्रांस समेत कई देशों ने ऑक्सीजन के साथ-साथ दूसरे मेडिकल उपकरण भेजकर हमारी मदद की है। इसी कड़ी में रूस के 27 साल के एक लड़के ने भारत को करीब 7 हजार करोड़ रुपए दान किए हैं। 27 साल के इस लड़के ने क्रिप्टोकरेंसी के रूप में भारत के कोविड रिलीफ फंड में दान दिया है, जिसकी कीमत 1 बिलियन डॉलर यानी करीब 7358 करोड़ रुपए है। अब आप सोच रहे होंगे कि कौन है यह लड़का, जिसने इतनी बड़ी रकम देकर भारत की मदद की है।  

Image Credit : The Moscow Times

कौन है 27 साल का यह मददगार

कोरोना संकट के दौर में भारत की इतनी बड़ी मदद करने वाले शख्स का नाम है विटालिक बुटेरिन। विटालिक दुनिया की दूसरी सबसे ज्यादा लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी ईथरियम (Ethereum) के सह-संस्थापक हैं। उन्होंने क्रिप्टोकरेंसी के रूप में भारत को दान दिया है। विटालिक ने जो दान दिया है, उसमें डॉग थीम वाले मीम सिक्कों का काफी मात्रा में इस्तेमाल किया गया है। इनकी कीमत 7 हजार करोड़ रुपए से भी ज्यादा है। ये सिक्के उन्हें, SHIB को बनाने वाले व्यक्तियों ने उपहार में दिए थे। फोर्ब्स मैगजीन की रिपोर्ट कहती है कि उन्होंने उद्यमी संदीप नलीवाल द्वारा बनाए गए इंडिया कोविड रिलीफ फंड में लगभग 1.2  बिलियन डॉलर मूल्य के 50 ट्रिलियन SHIB टोकन दान किए हैं। इस दान के लिए बुटेरिन को धन्यवाद देते हुए संदीप नलीवाल ने ट्वीट किया और कहा कि उन्हें जो दान मिला है, उससे वह जिम्मेदारी पूर्वक काम करेंगे। उन्होंने SHIB के धारकों को आश्वासन दिया कि मूल्यों को और अधिक बढ़ने नहीं देंगे। जैसे ही बुटेरिन ने अपने दान का खुलासा किया, शिबा सिक्कों की कीमत में भारी गिरावट देखने को मिली। खरीदारों और विक्रेताओं का मानना है कि युवा क्रिप्टो अरबपति बहुत जल्द अपने होल्डिंग्स खत्म कर देंगे।

2015 में किया ईथरियम का निर्माण

विटालिक बुटेरिन ने 2015 में ईथरियम का निर्माण किया था और अब यह बिटकॉइन को भी टक्कर दे रही है। बिटकॉइन की तरह ईथरियम की कीमत भी काफी बढ़ रही है, और लोग इसे पसंद भी कर रहे हैं। आपको बता दें कि विटालिक अभी सिर्फ 27 साल के हैं। उनका जन्म 1994 में हुआ है। रशियन-कनेडियन प्रोग्रामर विटालिक ने कनाडा से पढ़ाई की है। उन्होंने कई साल पहले से इस पर काम शुरू कर दिया था और उनकी काबिलियत की वजह से ही उन्हें कई बड़े प्लेटफॉर्म पर सम्मानित भी किया गया है। उन्होंने 2011 में बिटकॉइन मैगजीन की शुरुआत की थी, इसके बाद उन्होंने ईथरियम की शुरुआत की।

पहले भी कई बार कर चुके हैं दान

भारत को इतनी बड़ी रकम दान करने से पहले विटालिक ने 2017 में मशीन इंटेलिजेंस रिसर्च इंस्टीट्यूट को 7.63 लाख डॉलर और 2018 में एसईएनएस रिसर्च फाउंडेशन को 2.4 मिलियन डॉलर दान दिया था। इसके अलावा भी उन्होंने कई बार अलग-अलग संस्थाओं को दान किया है। विटालिक के अलावा पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर ब्रेट ली ने भी भारत की मदद के लिए क्रिप्टोकरेंसी में दान दिया है. उन्होंने 45 लाख रुपए की कीमत वाले बिटकॉइन दान में दिए हैं, ताकि भारत देशभर के अस्पतालों के लिए ऑक्सीजन खरीद सके। माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने भी भारत को कोरोना वायरस से लड़ने के लिए 1.5 करोड़ डॉलर दान करने का ऐलान किया है। ट्विटर के सीईओ जैक पैट्रिक डोर्सी ने ट्वीट कर कहा है कि यह राशि तीन गैर सरकारी संगठनों केयर, ऐड इंडिया और सेवा इंटरनेशनल यूएसए को दान की गई है।

क्या होती है क्रिप्टोकरेंसी

क्रिप्टोकरेंसी एक ऐसी मुद्रा है जो कंप्यूटर एल्गोरिथ्म पर बनी होती है। यह एक स्वतंत्र मुद्रा है जिसका कोई मालिक नहीं होता। यह करेंसी किसी भी एक अथॉरिटी के काबू में नहीं होती। अमूमन रुपया, डॉलर, यूरो या अन्य मुद्राओं की तरह ही इस मुद्रा का संचालन किसी राज्य, देश, संस्था या सरकार द्वारा नहीं किया जाता। यह एक डिजिटल करेंसी है जिसके लिए क्रिप्टोग्राफी का प्रयोग किया जाता है। आमतौर पर इसका प्रयोग किसी सामान की खरीदारी या कोई सर्विस खरीदने के लिए किया जा सकता है। सबसे पहली क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन थी, जिसकी शुरुआत 2009 में हुई थी। इसको जापान के सतोषी नाकमोतो नाम के एक इंजीनियर ने बनाया था। शुरुआत में यह उतनी प्रचलित नहीं थी, लेकिन धीरे-धीरे इसके दाम आसमान छूने लगे, जिससे यह सफल हो गई। वर्तमान समय में करीब 1000 तरह की क्रिप्टो करेंसी बाजार में मौजूद हैं, जो पियर टु पियर इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम के रूप में काम करती हैं।


Like Soochna on

Follow Soochna on

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *