चीन को छोड़कर भारत में कारोबार करेगी जर्मनी की फुटवियर कंपनी वॉन वेल्स

कोरोना वायरस का संक्रमण फैलाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चीन की काफी आलोचना हो रही है। इसी वजह से कई अंतर्राष्ट्रीय कंपनियां अब चीन से अपना कारोबार समेट रही हैं। इससे चीन आर्थिक स्तर पर अलग-थलग पड़ सकता है। इसी कड़ी में जर्मनी के फुटवियर ब्रांड वॉन वेल्स (Von Wellx ) ने चीन में अपने कारोबार को बंद कर उसे भारत लाने का फैसला किया है। जर्मन कंपनी अब उत्तर प्रदेश के आगरा में आईट्रिक इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड के साथ मिलकर अपनी प्रोडक्शन युनिट लगाएगी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विदेशी कंपनियों को आकर्षित करने और कोरोना संकट के बीच भारतीय अर्थव्यवस्था की मदद करने के लिए कई बैठकें करने के कुछ दिनों बाद ही यह खबर आई है।

चीन को छोड़कर भारत में कारोबार करेगी जर्मनी की फुटवियर कंपनी वॉन वेल्स -सूचना
Image Credit : Business Standard

80 देशों में 500 से ज्यादा रीटेल स्टोर

पुरुषों और महिलाओं के लिए ऑर्थोपेडिक फुटवियर बेचने वाली कंपनी वॉन वेल्स पूरी दुनिया में अपने फुटवियर्स के लिए मशहूर है। कंपनी का दावा है कि उनके उत्पाद इस्तेमाल करने से पैर, घुटने और कमर दर्द से राहत मिलती है। कंपनी की वेबसाइट के अनुसार वॉन वेल्स के उत्पाद 80 देशों में बिकते हैं। दुनियाभर में इन फुटवियर्स का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या 10 लाख से भी ज्यादा है। जानकारी के मुताबिक, जर्मन कंपनी के दुनियाभर में 500 से ज्यादा रीटेल स्टोर्स हैं। कंपनी अपने उत्पाद की बिक्री ऑनलाइन भी करती है। भारत में इसे 2019 में लॉन्च किया गया था।

आगरा में फैक्टरी लगाएगी कंपनी

जर्मन कंपनी अब जल्द ही उत्तर प्रदेश के आगरा में अपना उत्पादन संयंत्र लगाएगी। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम राज्य मंत्री उदयभान सिंह ने कंपनी के इस कदम का स्वागत किया है। उन्होंने कहा, ‘हम इस बात से खुश हैं कि कासा एवरेज जीएमबीएच (Casa Everz Gmbh) देश में निवेश करेगा और इतने लोगों को रोजगार देगा। खास बात यह है कि वह चीन को छोड़ कर भारत के उत्तर प्रदेश आ रहा है।’ वहीं आईट्रिक इंडस्ट्रीज के डायरेक्टर और सीईओ आशीष जैन ने कहा कि इस सहभागिता से 10 हजार से ज्यादा प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष नौकरियां पैदा होंगी।

कोरोना वायरस महामारी के बाद ज्यादातर अंतरराष्ट्रीय कंपनियां अपनी फैक्टरियां चीन से हटाकर दूसरे देशों में ले जाना चाहती हैं। हाल ही में एप्पल ने भी अपना प्रोडक्शन चीन से भारत शिफ्ट करने का जिक्र किया है। इसके अलावा कई मोबाइल और इलेक्ट्रिक सामान बनाने वाली कंपनियां चीन से भारत आने पर विचार कर रही हैं।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply