कोरोना वायरस पर स्टोरी कवर करने के जुर्म में चीनी महिला पत्रकार को भुगतनी पड़ सकती है 5 साल की सजा

कोरोना वायरस पर स्टोरी कवर करने के जुर्म में चीनी महिला पत्रकार को भुगतनी पड़ सकती है 5 साल की सजा

दुनिया भर में कोरोना फैलाने वाले चीन की एक और करतूत सामने आई है। दरअसल, चीन ने वुहान शहर में रिपोर्टिंग करके चीन का पर्दाफाश करने वाली महिला पत्रकार को महीनों से जेल में बंद करके रखा गया है।

इतना ही नहीं, महिला पत्रकार को पांच साल जेल की सजा का सामना भी करना पड़ सकता है, क्योंकि उस पर कोरोना वायरस को लेकर गलत जानकारी फैलाने का आरोप तय हो गया है और 4 से 5 साल की जेल की सजा की सिफारिश की गई है। जिस महिला पत्रकार पर आरोप लगे है, उसका नाम झांग झान बताया जा रहा है। यह भी पढ़ें: कोरोनावायरस के ‌बाद चीन में अब ‘Brucellosis’ का कहर, दिन-प्रतिदिन बढ़ रहा हैं संक्रमण

कोरोना वायरस पर कवर स्टोरी की थी

37 साल की महिला पत्रकार झांग झान को कोरोना महामारी पर स्टोरी कवर करने के दौरान वहां की स्थानीय पुलिस ने मई में गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद उन्हें शंघाई ले जाया गया।

गौरतलब है कि, कोरोना का सबसे पहला मामला इसी वुहान शहर में आया था। जिसके बाद अब, झांग पर आरोप है कि उन्होंने झगड़ा किया और प्रशासन के लिए मुश्किलें पैदा कीं। इसके अलावा उनपर, महामारी को लेकर मनगढ़ंत खबरें फैलाने का आरोप भी है। यह भी पढ़ें: ताकत देख बौखलाया चीन, बोला- अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी बढ़ रही है भारत की मजबूती

अन्य पत्रकार भी हिरासत में

चीन के वुहान में कोराना वायरस की रिपोर्टिंग के लिए सिर्फ झांग ही एक मात्र चीनी पत्रकार नहीं हैं, जिन्हें हिरासत में लिया गया है, बल्कि दो अन्य पत्रकार भी हैं, जो चीनी हिरासत में हैं। चेन मेई और काई वी दो अन्य पत्रकार हैं जो वुहान से कोरोना संबंधित समाचारों को कवर करने के लिए हिरासत में हैं।

इसके अलावा एक अन्य पत्रकार ली जेहुआ फरवरी माह से ही लापता थे, हालांकि कई सप्ताह बाद वह अचानक से सामने आए और उन्होंने कहा कि उन्हें सुरक्षाबलों द्वारा क्वारंटाइन में रखा गया था। इसके अलावा चेन कियूशी और फैंग बिन अब भी लापता हैं। यह भी पढ़ें: चीन की खुलेआम धमकी, कहा- ‘ सिक्किम से लेकर पूरे पूर्वोत्तर भारत में घोल देगा अलगाववाद का जहर’


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply