चीन की खुलेआम धमकी, कहा- ‘ सिक्किम से लेकर पूरे पूर्वोत्तर भारत में घोल देगा अलगाववाद का जहर’

PM Narendra Modi's stand prevails, Indian Army stands firm, isolated China  to move back from LAC | India News | Zee News
चीन की खुलेआम धमकी, कहा- ‘ सिक्किम से लेकर पूरे पूर्वोत्तर भारत में घोल देगा अलगाववाद का जहर’

ताइवान के मुद्दे पर पिछले काफी समय से चीन की किरकिरी हो रही है। हाल ही में ताइवान के नेशनल-डे पर भारत में ताइवान के लिए जो कैंपेन चलाए गए हैं उससे चीन बौखला गया है। दहशत के कारण ही चीन ने भारत को भी धमकी दी है कि वो सिक्किम से लेकर पूरे पूर्वोत्तर भारत में अलगाववाद का जहर घोल देगा।

चीन द्वारा दिया गया बयान साबित कर रहा है कि असल में चीन, भारत के आंतरिक मामलों में कितना ज्यादा हस्तक्षेप करता है। चीन के बयान ने भारत को सीधे-सीधे मौका दे दिया है कि वो चीन के विवादित क्षेत्रोंयानी कि ताइवान, हॉन्ग-कॉन्ग, शिंजियांग, तिब्बत का मुद्दा आसानी से उठा सके और असल में चीन की ये धमकी उसके लिए आत्महत्या की तरह साबित होगा। यह भी पढ़ें : दुबई से आए यात्रियों की तलाशी में प्राइवेट पार्ट्स से बरामद हुआ चार किलो से ज्यादा सोना, कीमत जानकर उड़ जाएंगे होश

दरअसल, चीन के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स में प्रकाशित एक लेख में चीन ने भारत को धमकी दी है कि यदि भारत ताइवान का मुद्दा उठाकर उसकी वन चाइना पॉलिसी को नुकसान पहुंचाएगा तो चीन भी भारत के पूर्वोत्तर में अलगाववाद को बढ़ावा देगा। इस लेख में भारतीयों को लेकर कहा गया है कि उन्हें समझने की जरूरत है कि उनका देश नाजुक मोड़ पर है और उन्हें आत्मचिंतन की आवश्यकता है।

ग्लोबल टाइम्स के संपादक हू शिजिन ने ट्वीट कर भी कहा था कि, ‘भारत की सामाजिक ताकतें ताइवान के मुद्दे पर खेल रही हैं, उन्हें पता होना चाहिए कि हम उत्तरपूर्व भारत में अलगाववादी ताकतों का समर्थन कर सकते हैं और सिक्किम को अलग कर सकते हैं। इन तरीकों से हम जवाबी कदम उठा सकते हैं। भारतीय राष्ट्रवादियों को अपने बारे में सोचना चाहिए। उनका देश नाजुक है।’

चीन ने इसे ताइवान के मुद्दे पर भारत के खिलाफ जवाबी कूटनीतिक कार्रवाई बताया है लेकिन इस पूरे मामले में चीन की धमकी उसके लिए ही नुकसान का सबब बन सकती है। यह भी पढ़ें : इस आईपीएस अफसर ने बताया अपनी 1 मिलियन डॉलर से भी ज्यादा की कमाई का राज

गृह मंत्रालय इसको लेकर लगातार कार्रवाइयां भी करता रहा है। चीन इस क्षेत्र के लोगों को लगातार प्रभावित करने की कोशिश करता रहता है। इस बार उसके मुखपत्र ने ये बात खुद बोलकर भारत के लिए वैश्विक स्थितियां अधिक सहज कर दी हैं। यह भी पढ़ें : फ्रांस में पैगम्बर मोहम्मद का कार्टून दिखाने पर टीचर का सिर कलम, हत्यारा मारा गया

चीन हमेशा ही कहता रहता है कि वो किसी भी देश के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करता है, लेकिन अब उसके ही मुखपत्र में छपे लेख ने भारत में अलगाववाद बढ़ाने की बात कहकर साबिक कर दिया है कि चीन भारत में किस हद तक हस्तक्षेप करता है। चीन का कहना है कि वो भारत के सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश के क्षेत्र में अलगाववाद भड़काकर भारत के लिए मुसीबत खड़ी कर सकता है।

दरअसल, चीन के गुस्से की वजह भारतीय मीडिया का ताइवान के लिए खड़ा होना है। हाल ही में इंडिया टुडे ने ताइवान के विदेश मंत्री जोसेफ का इंटरव्यू लिया था जिसमें ताइवान के मुद्दों पर खुलकर बात हुई थी। इस साक्षात्कार के बाद ही चीनी राजदूत ने भारत के खिलाफ हमला बोल दिया और अब इसी कड़ी में दो कदम आगे जाते हुए चीन भारत में अलगाववाद फैलाने की बात कर रहा है। यह भी पढ़ें : यह भी पढ़ें : बॉलीवुड एक्ट्रेस के फोटो लगे जॉबकार्ड पर मनरेगा में धड़ल्ले से चल रहा काम

इस पूरे मामले पर चीन ने भारत को मौका दे दिया है कि वो चीन के विवादित मुद्दों को वैश्विक मंचों पर उठाए। भारत अब शिनजियांग के उइगर मुस्लिमों का मुद्दा उठाकर उसके लिए मुसीबत खड़ी कर सकता है। यही नहीं चीन द्वारा जबरदस्ती कब्जाए गए तिब्बत में कम्युनिस्ट सरकार द्वारा होते अत्याचार के साथ उसकी आजादी का मुद्दा भी उठा सकता है।

इसके अलावा हॉन्ग-कॉन्ग की आजादी के मुद्दे पर भी भारत चीन को वैश्विक मंचों पर घेर सकता है। वहीं, ताइवान के मुद्दे पर भारत खुलकर सामने आते हुए चीन की मुसीबतों में इजाफा कर सकता है। यह भी पढ़ें : अब पीवीसी कार्ड पर रिप्रिंट होगा आधार कार्ड, एटीएम की तरह पर्स में रखना होगा आसान


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply