ऐसे तैयार हुई सेफ्टी एंटी टीजिंग ज्वेलरी, महिलाओं की हथियार बन के करेगी रक्षा

ऐसे तैयार हुई सेफ्टी एंटी टीजिंग ज्वेलरी, महिलाओं की हथियार बन के करेगी रक्षा

आज के समय में महिलाएं दुनिया के किसी भी कोने में ख़ुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर सकती है। वहीं जब भी महिलाएं महंगे-मंहगे गहने पहनती हैं तो अपराध का अवसर बहुत ज्यादा रहता है। लेकिन अब गहना महिलाओं की खूबसूरती पर चार चांद लगाने के साथ-साथ उनकी रक्षा के लिए एक हथियार भी बन सकेगा। 

हाल ही में प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में ऐसी डिवाइस बनाई है, जिसका इस्तेमाल गहनों में किया जाएगा और यह गहने महिलाओं की रक्षा करेंगे। महिलाओं के साथ हो रही छेड़खानी और अन्य घटनाओं को रोकने के लिए वाराणसी के श्याम चौरसिया और दिल्ली की रचना राजेंद्रन ने साथ मिलकर वुमेन्स सेफ्टी ज्वेलरी तैयार की है।

इस डिवाइस का निर्माण करने वाली रचना राजेंद्रन ने बताया, “देश में बढ़ती महिलाओं संग छेड़खानी व दुष्कर्म जैसी घटनाओं को रोकने के लिए इसे खासतौर पर तैयार किया गया है। इस डिवाइस को ज्वेलरी में ब्लूटूथ से अटैच किया है। अगर कोई महिला मुसीबत में होती है, ज्वेलरी में लगे बटन को दबाने से उसकी लोकेशन पुलिस और घरवालों के नम्बर पर चली जाएगी। जिससे सामने वाली की रक्षा हो पाए।”

वह आगे कहतीं हैं- इन‌ गहनों की एक खसियत और भी है कि, “मोबाइल की स्क्रीन लॉक और बटुए के अंदर होने पर भी यह अच्छे से काम करता है। यदि कोई आपके गहने छीनता है, तुरंत ये लोकेशन बता देगा। यह बहुत आसान गैजेट है, इसे प्रयोग करने में बहुत आसनी होगी।”

वहीं, युवा वैज्ञानिक श्याम चौरसिया ने बताया कि, “अक्सर देर रात्रि में काम करने वाली महिलाएं जब कभी मुसीबत में फंस जाती हैं, तो छेड़खानी करने वाले उनका मोबाइल और बटुआ छीन लेते हैं। लेकिन ज्वेलरी में लगी डिवाइस को दबाने से यह ब्लूटूथ काम करने लगेगा। इसकी रेंज 3 से 5 मीटर के अन्तर्गत काम करती है, यह महिला की रक्षा के साथ उनके आभूषणों की भी रक्षा करेगा।

इन सब के अलावा, वीरबहादुर सिंह नक्षत्रशाला, गोरखपुर वैज्ञानिक अधिकारी महादेव पांडेय ने बताया कि, “यह अच्छा गैजेट है। महिला सुरक्षा के लिए कारगर साबित हो सकता है। इस तकनीक को सरकार द्वारा भी ट्रायल किया जाना चाहिए।”

ऐसी है बनावट

अगर बात करें इस डिवाइस की बनावट की तो इसमें ब्लूटूथ मॉडयूल और चार्जेबल बैटरी है, जो 10 घंटे तक चलती है। इस ज्वेलरी का नाम विमेंस सेफ्टी एंटी टीजिंग ज्वेलरी रखा गया है। इसके साथ ही इसे बनाने में 2-3 माह का समय लगा है और करीब 900 रूपये का खर्च आया है। इतना ही नहीं, यह पूर्णतया मेड इन इंडिया है।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *