पिछड़े कृषि पृष्ठभूमि और दैनिक मजदूरी वाले छात्र नहीं ले पा रहे थे प्रवेश, काॅलेज व्याख्याताओं ने की आर्थिक मदद

Lecturers play Good Samaritans, pay school fees of fifty students- The New  Indian Express
पिछड़े कृषि पृष्ठभूमि और दैनिक मजदूरी वाले छात्र नहीं ले पा रहे थे प्रवेश, काॅलेज व्याख्याताओं ने की आर्थिक मदद
PC-New Indian Express

लॉकडाउन के कारण बड़ी संख्या में परिवारों ने अपनी आय का स्रोत खो दिया है। कई लोग बेरोजगार हुए हैं तो ‌कई परिवार आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं। यहां तक कि लाॅकडाउन में ऐसी खबरें भी ‌सामने आईं हैं कि कहीं कोई टीचर मजदूरी कर रहे हैं, तो कहीं कोई टीचर ठेले पर सब्जी बेचने को मजबूर है।
इन‌ सब के इतर कर्नाटक के शिरहट्टी में कुछ बच्चे एडमिशन नहीं ले पा रहे थे। उनके परिवार के पास पैसे नहीं थे। ऐसे में कॉलेज के टीचर्स ने उनकी मदद की।

जैसा कि आर्थिक रूप से पिछड़े कृषि पृष्ठभूमि और दैनिक मजदूरी वाले छात्र प्रवेश के लिए नहीं आ रहे थे। इसलिए व्याख्याताओं ने उन्हें यह बताने के लिए उनके घरों का दौरा करने का फैसला किया कि वे फीस का भुगतान करेंगे ताकि वे कॉलेज में भाग ले सकें। कॉलेज के व्याख्याताओं की इस पहल ने कई छात्रों को आकर्षित किया। 

सहायता से उत्साहित एक छात्र, शरणू ने कहा, “जब मेरे माता-पिता दिहाड़ी मजदूर के रूप में काम करते हैं, तो मुझे परिवार का समर्थन करने के लिए भी काम करना पड़ता है। कॉलेज में पढ़ने के लिए लगभग 3,000 रुपये की आवश्यकता थी। मैंने इस वर्ष अध्ययन करने की अपनी योजना को लगभग छोड़ दिया। हालांकि, हमारे व्याख्याताओं ने मदद की और मैं उन सभी को धन्यवाद देता हूँ। ” 

वहीं कॉलेज प्रबंधन समिति के सदस्य वाईएस पाटिल ने कहा, ‘कई छात्र महामारी के कारण कॉलेज आने से हिचकिचा रहे थे। यहां तक ​​कि वे काम करके अपने परिवार में योगदान देना चाहते थे। इसलिए हमारे कॉलेज के व्याख्याताओं ने ऐसे छात्रों को कॉलेज में लाने में रुचि दिखाई। यदि अधिक गरीब छात्र प्रवेश लेना चाहते हैं तो कॉलेज प्रशासन समिति ने भी मदद करने का फैसला किया है। और यह ही महामारी के बीच हमारा कर्तव्य है।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *