जनक पलटा जिन्होंने पलट दी अपने गांव की दशा

प्रकृति ने हमें चारों ओर से घेर रखा है लेकिन विज्ञान की तकनीक के बढ़ते चलन के कारण प्रकृति का अस्तित्व भी धीरे-धीरे खतरे में पड़ते जा रहा है। विज्ञान की तकनीक के बढ़ते चलन और प्राकृतिक के घटते अस्तित्व को रोकने के लिए|यह बात गांव के लोगों को बड़े अच्छे से समझ आया और उनके इस काम के कारण पूरा गांव भारत देश में अपनी एक अलग पहचान बनाने में सफल रहा। इस गाँव की कायापलट करने में एक ऐसी शख्सियत का हाथ है जिन्होंने अपना पूरा जीवन लोगों की सेवा में व्यतीत कर दिया और आज भी वे अपने इस काम से पीछे नहीं हटती इनका पूरा नाम जनक पलटा मि‍‍क्गिलिगन है।

Image credit: jugaadtoinnovation.blogspot.com

यह इंदौर के नजदीक सनावदियां गांव में रहती है । डॉ. जनक पलटा जनक दीदी के नाम से भी मशहूर है। डॉ. जनक का जन्म 16 फरवरी 1948 को पंजाब के जालंधर में हुआ था। डॉ जनक पलटा अब तक तीन बार मौत को भी मात दे चुकी हैं । 15 साल की उम्र में जनक पलटा जी की ओपन हार्ट सर्जरी हुई। वे इस दर्द से उबर कर सामने आई।असाध्य रोग कैंसर से लड़कर वे कैंसर विजेता बनी। जनक जी की शादी उत्तरी आयरलैंड के जिम्मी मि‍‍क्गिलिगन से हुई जिनका पूरा जीवन हिंदुस्तान में ही बीता। जिस सड़क दुर्घटना में उनके पति जिम्मी चले बसे जनक पलटा जी भी उस समय उनके साथ थीं लेकिन वे सुरक्षित रहीं और जिम्मी चले गए। 

Image credit: jugaadtoinnovation.blogspot.com

इनकी इन सबके बाद जनक पलटा जी ने कहा कि अगर मैं इतने भयावह हादसों से निकल कर भी जिंदा हूं तो अवश्य ही भगवान की कोई खास मंशा है मुझसे कुछ खास करवाने की अब मैं मेरा पूरा जीवन आम लोगों की सेवा में समर्पित करना चाहूंगी। इसके बाद इन्होंने पूरे भारत का भ्रमण किया और कई गांवों में आम लोगों के बीच रहकर डाॅ जनक पलटा ने नि:शुल्क इलाज किया। झाबुआ और 302 गांवों जैसे सुदूर और पिछड़े इलाकों में जाकर बरसों पहले फैली ‘नारू’ बीमारी से मुक्त कराने में भी जनक जी का ही योगदान है। इस दौरान जनक जी ने इंदौर का भी दौरा किया। इन्हें इंदौर शहर पसंद आया और इंदौर की मिट्टी को अपना ही बना लिया।

उन्होंने 1985 में इंदौर के सनावदियां गांव में बरली डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट फॉर रूरल वुमन नामक प्रशिक्षण संस्थान शुरू किया था। इनके पति जिम्मी मि‍‍क्गिलिगन प्रकृति के काफी करीब थे।कम से कम संसाधनों से निर्मित आकर्षक सौर ऊर्जा से संचालित उपकरणों को समझाने में वें उनकी मदद करेंगे लेकिन एक दुखद हादसे का शिकार होकर जिम्मी जनक पलटा जी को छोड़कर चले गए।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply