मुंबई की ऑटो ड्राइवर कर रही गरीबों की मदद, लॉकडाउन में दे रही फ्री सर्विस

ऐसे वक्त में जब देशभर में लोग कोरोना वायरस से लड़ने के लिए लॉकडाउन का पालन करते हुए अपने-अपने घरों में कैद हैं, वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो संकट की इस घड़ी में गरीब और जरूरतमंद लोगों की मदद कर रहे हैं। पुलिस, डॉक्टर, मेडिकल स्टाफ और सफाईकर्मी जहां देश के प्रति अपना कर्तव्य निभा रहे हैं, तो वहीं कुछ आम नागरिक भी अपने स्तर पर लोगों की मदद करने से पीछे नहीं हट रहे हैं। ऐसे लोग ही हमें इस बात की प्रेरणा देते हैं कि अगर आप इंसान और इंसानियत के लिए कुछ करना चाहते हैं तो कोई भी आपको रोक नहीं सकता। आज हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसी ही एक महिला ऑटो-रिक्शा ड्राइवर के बारे में, जो लॉकडाउन के बीच जरूरतमंद लोगों की मदद कर रही हैं।

Mumbai: Woman Auto Rickshaw Driver Giving Free Rides To Needy Amid ...
Image Credit : NBT

लॉकडाउन में मुफ्त में बिठा रहीं सवारी

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में एक ऐसी ऑटो-रिक्शा ड्राइवर हैं, जो लॉकडाउन में लोगों को मुफ्त सेवा दे रही हैं और उन्हें उनकी मंजिल तक पहुंचा रही हैं। शीतल सरोडे नाम की यह ड्राइवर मुंबई के घाटकोपर में रहती हैं और वह लॉकडाउन में लोगों को मुफ्त सेवा देकर उन्हें उनके गंतव्य तक पहुंचाने में मदद कर रही हैं। शीतल का कहना है कि कई बार बहुत जरूरी काम के लिए वाहन की जरूरत होती है, लेकिन लॉकडाउन के समय में लोगों को वाहन नहीं मिल पाता। मैंने किसी को अपना नंबर नहीं दिया है, लेकिन अगर किसी को जरूरत होती है तो मैं उसे उसकी मंजिल तक पहुंचा देती हूं।

लोगों की मदद के लिए कर रहीं यह नेक काम

अपने इस नेक काम के बारे में शीतल ने कहा, ‘मैं लॉकडाउन में ऑटो-रिक्शा चला रही हूं ताकि इस मुश्किल वक्त में मैं लोगों की मदद कर सकूं। मुझे इससे खुशी होती है। मैं यह सब पैसों के लिए नहीं कर रही हूं। लॉकडाउन से पहले मैं ऑटो चलाकर पैसे कमाती थी ताकि अपना परिवार चला सकूं, लेकिन अब मैं समाज सेवा के लिए और लोगों की मदद के लिए ऑटो चला रही हूं।’ वह आगे कहती हैं, ‘अगर कोई इमरजेंसी में फंस जाता है तो मैं मुफ्त में उसकी मदद करती हूं। मैं गरीब लोगों को भी उस जगह पर ले जाती हूं जहां उनके लिए भोजन का इंतजाम होता है।’

गरीबों की मदद को आगे आए कई संगठन

कोरोना वायरस के कारण देशभर में 3 मई तक के लिए लॉकडाउन किया गया है। इन हालात में गरीब लोगों को कई तरह की मु्श्किलों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में कई संस्थाएं और आम लोग इनकी मदद के लिए आगे आ रहे हैं। कई संगठन गरीबों परिवारों को भोजन व दैनिक जरूरतों का सामान बांट रहे हैं तो कई लोग अपने-अपने स्तर पर उन्हें भोजन करा रहे हैं। कहीं पर स्थानीय लोग पुलिसवालों के लिए भोजन व अन्य चीजों का इंतजाम कर रहे हैं। यही लोग देश के सच्चे सेवक हैं जो कोरोना के खिलाफ एकजुट होकर हमें इससे लड़ने की ताकत दे रहे हैं।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply