एमटीएच की लापरवाही फिर आई सामने, ऑक्सीजन ठीक से न‌ मिलने की वजह से मरीज की मौत

कोरोनावायरस के चलते हर अस्पताल में भीड़ है। कुछ व्यक्ति इलाज न मिलने के कारण परेशान हैं तो कुछ ठीक तरीके से इलाज न मिलने के कारण।

इंदौर में लगातार अस्पतालों की लापरवाही की घटनाएं सामने आती रहीं हैं। इस बार ताज़ा मामला एमटीएच इंदौर अस्पताल का है। जहां पीड़ित मरीज की मौत हो गई। जिसके बाद अब परिजनों ने अस्पताल पर संगीन आरोप लगाए हैं।

यह है पूरा मामला

राजेश निषाद (मृतक) की पत्नी ने बताया कि उनके पति को सांस लेने में परेशानी हो रही थी। घबराहट होने पर हम उन्हें लेकर महू अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां पर डॉक्टर ने जांच करने के बाद बताया कि उनका हार्ट कमजोर है।

जिसके बाद हम शनिवार को देर रात पहले एमवाय अस्पताल पहुंचे। जहां पर डॉक्टरों ने एक्सरे, सीटी स्कैन, ईसीजी की, जिसके पश्चात हमें एमटीएच जाने को कहा। हमने मना भी किया, इसके बाद भी हमें वहां भेज दिया गया।

जब हम मरीज को लेकर एमटीएच अस्पताल पहुंचे तो उन्होंने हमें गेट के भीतर नहीं जाने दिया। इतना ही नहीं हमसे कहा गया कि अब आप घर जाओ हम इनका पूरा ख्याल रखेंगे।

रविवार को दोपहर करीब दो बजे मृतक की पत्नी मृतक से मिलने पहुंची। उन्होंने बताया कि वहां पर मैंने अस्पताल के भीतर ही फोन पर उसने बात की और पूछा कि अब आराम है। इस पर उन्होंने कहा कि मुझे बिल्कुल भी आराम नहीं है। मुझे यहां ना तो ऑक्सीजन दी जा रही है ना ही कोई बोतल चढ़ाई जा रही है। यहां तक की मुझे बाथरूम तक नहीं करवाया जा रहा है। मैं पानी के बिना तड़प रहा हूं, मुझे यहां पानी तक नहीं दिया जा रहा है। मेरा दम घुट रहा है।

वह आगे कहतीं हैं कि फिर मैंने अस्पताल के भीतर बात की। इस समय मेरे मोबाइल की रिकॉर्डिंग चालू थी। मैंने मैडम से शिकायत की। मेरे पति कह रहे हैं मुझे पानी नहीं मिल रहा है। ऑक्सीजन भी बंद-चालू हो रहा है।

इस पर मैडम ने किसी को कॉल कर कहा कि चेक करो। इस पर उसने उधर से कहा कि मरीज ने खुद ही आक्सीजन निकाल दी है। जबकि मेरे पति कह रहे थे कि मैंने नहीं निकाली है। वे मुझसे कह रहे थे कि तुम पानी लेकर आ जाओ। मैं जाने लगी तो मैडम ने मुझे रोक दिया।

मामले पर डीन का जवाब

मृतक के परिजन के आरोप पर मेडिकल कॉलेज की डीन डॉक्टर ज्योति बिंदल ने कहा कि हमारे यहां पर ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है। मैं पूरे केस को दिखवाती हूं। यह जरूर कह सकती हूं कि ऑक्सीजन के कारण तो मौत नहीं हुई होगी।

वहीं, कोविड-19 नोडल अधिकारी डॉ. अमित मालाकार का कहना है कि ऐसा मामला संज्ञान में जरूर आया है। मामले को दिखवा रहे हैं।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *