इंदौर की महिला ने पुलिस पर लगाया था प्रताड़ित करने का आरोप, जानें वायरल वीडियो का सच

रविवार, 26 जुलाई को इंदौर का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी हुुआ। वायरल वीडियो में एक महिला जिसका नाम साक्षी शर्मा बताया जा रहा है, वह इंदौर के तिलक नगर थाने के पुलिसकर्मियों और प्रशासन पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था। महिला का कहना है कि, उसने 40 45 आवारा कुत्तों को पनाह दे रखी है, जिसे वह अपनी ही कमाई से पाल रही है। 

महिला ने तिलक नगर थाना पुलिस पर आरोप लगते हुए कहा कि, पिछले 10 महीने से पुलिस महिला को प्रताड़ित कर रही है और जब वह शिकायत करने जाती है, तो उसके साथ बदसलूकी की जाती है। महिला ने यह भी आरोप लगाया है कि, तिलक नगर क्षेत्र में अवैध तरीक़े से अतिक्रमण कर कसाईखाना चलाए जा रहे हैं जिस पर पुलिस कार्यवाई नहीं कर रही है। महिला का कहना है कि आसपास की बिल्डिंग के सिक्योरिटी गार्ड्स रिश्वत लेकर कसाईखानों का संचालन करवा रहे हैं।

महिला ने बताया कि रोज शाम 4-5 लोग उसके घर के सामने बैठकर नशा करते हैं, लेकिन जब पुलिस से इस मामले की शिकायत की तो कोई सुनवाई नहीं की गई। वीडियो में महिला को कहते हुए सुना जा सकता है कि 3 दिन पहले उसके पालतू कुत्ते को भेड़-बकरी चराने वाले ने मार डाला। 

महिला ने यह भी आरोप लगाया है कि एनिमल वेलफेयर वाले भी उसकी मदद नहीं कर रहे हैं। महिला जब तिलक नगर थाना टीआई के पास शिकायत करने गई तो उन्होंने शिकायत दर्ज कराने से मना कर दिया और उन्हें लगातार जान से मार देने की धमकियां भी मिल रही हैं। महिला ने आरोप लगाया है कि उसके साथ यौन शोषण, शारीरिक शोषण और सामाजिक शोषण भी किया गया है।

महिला ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि, क्षेत्र में पुलिस ड्रग सप्लाई, अतिक्रमण, अवैध कसाईखाना में लिप्त है और पैसों के लिए धंधा करती है। महिला ने कहा कि उसपर घर खाली कराने के लिए दबाव बनाया जा रहा है। महिला का कहना है कि जब भी वह पुलिस में शिकायत करने जाती है तो उसे शादी करके बच्चे पैदा करने का हवाला दिया जाता है और जिस तरह मेरे कुत्तों को मार दिया गया है, उसी तरह उसे भी मार दिया जाएगा।

क्या है वायरल वीडियो की सच्चाई:

जब वीडियो के सामने आने के बाद पुलिस ने मामले में संज्ञान लिया। तिलक नगर थाना टीआई ने बताया कि वीडियो के वायरल होने के बाद ‘पीपल फॉर एनिमल’ की अध्यक्ष प्रियांशु जैन के साथ जाकर मामले की जांच की। तिलक नगर थाना टीआई ने कहा कि, “महिला को क्षेत्र में भेड़ बकरी चराने वालों से परेशानी है। इस मामले की जांच के निर्देश दिए गए हैं।” 

उन्होंने बताया कि महिला ने जो बातें वीडियो में कही हैं वे बिल्कुल ही तथ्यहीन हैं। महिला में वीडियो ने कहा कि उनकी शिकायत कर कोई कार्यवाई नहीं की गई है। वहीं, पुलिस कहा कहना है कि 9 मार्च को उनकी शिकायत पर कार्यवाई की गई थी, महिला के द्वारा 76 वर्षीय शोभाराम के खिलाफ एफ़आईआर दर्ज कराई गई थी। इस मामले में पुलिस ने महिला की शिकायत पर गिरफ्तारी भी की थी। 

पुलिस का कहना है कि महिला कर जान को कोई खतरा नहीं है। पुलिस ने कहा कि, जब बिल्डिंग के चौकीदार ने महिला का समान लाने से मना किया, तो महिला ने उसे धमकाते हुए उसके खिलाफ झूठा केस दर्ज कराने की धमकी भी दी।

https://www.instagram.com/p/CDHYrS6hkTh/?utm_source=ig_web_copy_link

पुलिस ने महिला के संबंध में एक बड़ा खुलासा किया है। पुलिस के अनुसार महिला का असली नाम समरीन बानो पिता दिलशाद सिद्दकी है, जो कि मेरठ की रहने वाली है। वह इंदौर में नाम बदलकर साक्षी शर्मा के नाम से रह रही थी। महिला के खिलाफ नोएडा, अजयपुर चौकी सहित तमाम थानों में महिला के खिलाफ शिकायत हुई है। पुलिस की जांच में पता चला है कि महिला विभिन्न राज्यों में अलग-अलग नाम बदलकर रहा करती थी। 

इंदौर के एरोड्रम और लसुड़िया थाने में भी महिला के खिलाफ मकान किराया ना देने के आरोप में शिकायत दर्ज कराई गई थी। तिलक नगर थाना टीआई ने लोगों से अपील की है कि सोशल मीडिया पर किसी भी वीडियो को शेयर करने से पहले दोनों पक्षों को जान लिया जाए। पुलिस ने कहा कि इस मामले को लेकर हम बेहद संवेदनशील हैं और जरूरत पड़ने पर महिला की मदद के लिए भी हम सक्रिय हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *