नाबालिग लड़के ने की पिता की हत्या, क्राइम पेट्रोल एक एपिसोड 100 बार देख कर मिटाए सबूत

मथुरा में एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है, जहां 17 वर्षीय लड़के ने गुस्से में आकर अपने पिता की हत्या कर दी। इसके साथ ही, सबूत नष्ट करने के लिए टीवी धारावाहिक ‘क्राइम पेट्रोल’ से आइडिया लिया। जिसके बाद कक्षा 12वीं के छात्र को जब बुधवार को गिरफ्तार किया गया और पुलिस ने उसके मोबाइल फोन की जांच की तो पता चला कि उसने ‘क्राइम पेट्रोल’ सीरीज 100 से ज्यादा बार देखी थी। यह भी पढ़ें: अक्षय कुमार की आगामी फिल्म ‘लक्ष्मी बम’‌ का नाम ‌ बदला, जानिए क्या है कारण

ऐसे की पिता की हत्या

दरअसल, पिता के डांटने पर नाबालिग बेटे ने 2 मई को अपने 42 वर्षीय पिता मनोज मिश्रा की हत्या कर दी। लड़के ने पिता के सिर पर लोहे की छड़ से वार किया और जब वह बेहोश हो गए, तो उसने कपड़े के टुकड़े से उनका गला घोंट दिया। यह भी पढ़ें: पाकिस्तान विपक्ष का दावा- ‘हमले की आशंका से डर गई थी सेना और पाकिस्तान सरकार इसलिए किया अभिनंदन को रिहा’

ऐसे मिटाए सबूत

घटना को अंजाम देने के बाद, उसी रात लड़के ने अपनी मां की मदद से शव को लगभग 5 किलोमीटर दूर जंगल में ले गया और पहचान मिटाने के लिए उसे पेट्रोल से जला दिया और फिर टॉयलेट क्लीनर की मदद से सबूत मिटा दिए।

जिसके बाद 3 मई को पुलिस को आंशिक रूप से जला हुए शरीर मिला लेकिन वह उसकी पहचान नहीं कर सकी क्योंकि किसी भी पुलिस स्टेशन में किसी भी व्यक्ति की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई थी। यह भी पढ़ें: महबूबा मुफ्ती का तिरंगा वाला बयान पीडीपी को पड़ा भारी, पार्टी के तीन नेताओं ने दिया इस्तीफा

चश्मे से हुई आरोपी की पहचान

आखिरकार इस्कॉन के अधिकारियों के दबाव में परिवार ने 27 मई को मनोज मिश्रा की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई, क्योंकि मनोज मिश्रा वहां दान इकट्ठा करने का काम करते थे और गीता का प्रचार करने के लिए अक्सर यात्राएं करते थे। इसी कारण उनकी लंबी अनुपस्थिति से किसी को संदेह नहीं हुआ था। बाद में उनके कुछ सहयोगियों ने चश्मे के जरिए उनकी पहचान कर ली। यह भी पढ़ें: इस एक्ट्रेस पर दर्ज हुआ एक करोड़ की मानहानि का केस, महेश भट्ट पर लगाए थे गंभीर आरोप

मथुरा के पुलिस अधीक्षक (शहर) उदय शंकर सिंह ने कहा कि पुलिस जब भी मनोज के बेटे को पूछताछ के लिए बुलाती है, वह आने से बचता और पूछता कि वे कानून के किन प्रावधानों के तहत उससे पूछताछ करने की कोशिश कर रहे हैं।

हालांकि, जब पुलिस ने उसके मोबाइल फोन की जांच की तो उन्होंने पाया कि उसने कम से कम 100 बार क्राइम पेट्रोल के ऐपिसोड्स देखे थे। कई दौर की पूछताछ के बाद लड़का आखिरकार टूट गया और उसने अपना अपराध स्वीकार कर लिया। यह भी पढ़ें: MNS से 24 घंटे का अल्टीमेटम मिलने के बाद जान कुमार सानू ने मराठियों से मांगी माफी

मां-बेटे पर दर्ज हुआ केस

पुलिस ने लड़के और उसकी 39 वर्षीय मां संगीता मिश्रा को गिरफ्तार कर लिया है। उन पर हत्या और सबूत नष्ट करने के लिए मामला दर्ज किया गया है। फिलहाल आरोपी की 11 वर्षीय बहन को दादा-दादी को सौंप दिया गया है। यह भी पढ़ें: केंद्र ने दी इजाजत : जम्मू-कश्मीर में ख़रीद सकते हैं ज़मीन, नहीं पड़ेगी Domicile की जरूरत


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *