90 साल की बुजुर्ग महिला के बालात्कार के बाद महिला ने ही सुनाई अपनी आप-बीती

Humanity shamed! 90-year-old woman raped, brutally thrashed in Delhi's  Najafgarh, DCW chief meets survivor | Crime News
90 साल की बुजुर्ग महिला के बालात्कार के बाद महिला ने ही सुनाई अपनी आप-बीती (image credit)- times now news

दिल्ली के नजफगढ़ के छावला इलाके 33 साल के हैवान ने 90 साल की महिला के साथ दुष्कर्म किया। जिसके बाद पीड़ित बुजुर्ग महिला ने अब बयान दिया है।

घटना के बाद से आस पड़ोस की महिलाओं के चेहरे पर खौफ साफ नजर आ रहा है। हादसे के बाद गांव की सबसे बुजुर्ग महिला को घेर कर बैठी महिलाएं उनका दुख को बांटने की कोशिश कर रही हैं। वह बतातीं हैं कि हम जैसे ही आगे बढ़ते हैं, वह बुजुर्ग महिला उठकर हमें गले लगा लेती है। कांपते हुए हाथ सर पर फेरकर दुआ देती है। यह भी पढ़ें- 90 साल की बुजुर्ग महिला से 33 साल के हैवान ने किया बालात्कार, महिला बार-बार कहती रही, “मैं तेरे दादी की उम्र की हूं”

पीड़ित बुजुर्ग महिला का‌ रो-रोकर बुरा हाल है। झुकी हुई कमर, सूजा हुआ चेहरा, चोट के नीले निशान, सूखे होंठ, कांपते हाथ के साथ ही डरा हुआ चेहरा।

महिला किसी तरह अपनी सिसकियों को संभालकर कहती है कि, ”उस दरिंदे को फांसी होनी चाहिए, इस उम्र में मेरा ये हाल किया है। 90 साल की हो गई, कभी बुखार नहीं चढ़ा, बीमार नहीं पड़ी, कभी गोली-दवाई नहीं खाई, अब इस उम्र में मेरे साथ ये दरिंदगी की गई है, अस्पताल, थाने, अदालत के चक्कर लगाने पड़ेंगे। उस दरिंदे को फांसी टूटेगी तो मुझे सब्र आएगा।” 

”भगवान ने मुझे बहुत मज़बूत दिल दिया था, कभी परेशान नहीं हुई। उसने 90 साल की उम्र में मेरा करम फोड़ दिया। इतना सताया कि मेरा दिल चकनाचूर हो गया। एक पल सब्र नहीं आ रहा। मेरे चेहरे पर घूंसे ही घूंसे मारे, दांत नहीं है, मसूड़े फोड़ दिए। रोटी भी नहीं खा पा रही हूं। बूढ़ी आत्मा के साथ ये परेशानी करी है, उसे फांसी ही टूटनी चाहिए।”

महिला आगे बताती है कि “उसने कहा ताई तेरा दूधिया आया है उससे मिलवा लाता हूं। रास्ते में मैं उससे कहती रही मुझे कहां जंगल की तरफ ले जा रहा है तो वह बोला, फार्म पर दो हजार रुपए रखे हैं, वो लेने जा रहा हूं। मैंने कहा कि मैं गिर जाऊंगी तो भी वो नहीं माना।”

“मैं मोटरसाइकिल से उतर गई तो गोदी भरकर फार्म पर ले गया। घसीटते हुए। मेरा जिस्म कांटों से छलनी हो गया। चार बजे ले गया था, छह-सात बजे तक उसने मुझे छोड़ा नहीं। मैं उससे कहती रही, ये भाई मुझे बाहर ले चल, मेरा जी घबरावे है, मुझे पसीना आ रहा है। मगर उसने एक ना सुनी। मुझे पूरी नंगी करके ऐसे घसीटा जैसे कुत्ते को घसीटै हैं।”

दादी बताती हैं कि ”मैं गिड़गिड़ाती रही की मैं तेरी दादी जैसी हूं, भगवान देख रहा है, लेकिन उसने मेरी एक ना सुनी। मेरे साथ उसने हर वो दरिंदगी की जो वो कर सकता था। वो भी किया जो कोई किसी के साथ नहीं करता।”


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply