5 साल से लगातार रोजाना 3 हजार से अधिक लोगों को मुफ्त में पानी पिला रहा है राजस्थान का यह शख्स

5 साल से लगातार रोजाना 3 हजार से अधिक लोगों को मुफ्त में पानी पिला रहा है राजस्थान का यह शख्स – सूचना

राजस्थान का चूरू हमेशा से भारत के सबसे गर्म शहरों में से एक रहा है। जहाँ हर साल भीषण गर्मी पड़ती है। जिसके कारण चूरू में हर साल पानी की किल्लत भी होती है और वहां लोगों को अपनी प्यास बुझाने के लिए कड़ी मेहनत मशक्कत करनी पड़ती है। उसी चूरू शहर के सुजानगढ़ जिले में एक शख्स ऐसा भी हैं, जो रोजाना अपने ऑटोरिक्शा से हजारों लोगों की प्यास बुझाता है और उन्हें मुफ्त में पानी पिलाता है।

उस शख्स का नाम मोहम्मद आबद हैं, जो ऑटोरिक्शा का उपयोग सवारियों को ले जाने में नहीं बल्कि ऑटोरिक्शा से RO का पानी मुफ़्त में बांटने में करते हैं। आबद सुबह 6 बजे से अपना ऑटोरिक्शा लेकर निकलते हैं, तो शाम तक पूरे शहर में 3 हजार से अधिक लोगों को पानी पीलाते हुए घर पहुंचते हैं। उन्होंने अपने ऑटोरिक्शा का नाम ‘शुध्द फिल्टर पानी’ रखा हैं। इस ऑटोरिक्शा में स्टील के ग्लास और एक नल लगा है। इस ऑटोरिक्शा में पानी के आलावा म्युजिक सिस्टम, पंखा और लाउडस्पीकर भी रखा हुआ रहता हैं।लाउडस्पीकर के माध्यम से वे लोगों को पानी बचाने के बारे में जागरूक करते हैं। इनके अलावा आबद ने 500 वाट का सौलर पैनल भी लगा रखा है। जिसकी सहायता से यह सब चलते हैं। आबद पिछले पांच वर्षों से यह काम कर रहे हैं। वह जिले के सभी क्षेत्रों में जाते हैं और जहाँ ज्यादा भीड़ होती है, वहाँ थोड़ी देर ज्यादा रूक कर लोगों को पानी पीलाते हैं।

अपनी बचत का उपयोग कर पानी खरीदते हैं

अबाद अपनी व्यक्तिगत बचत का उपयोग कर 2000 लीटर RO का पानी खरीदते हैं। वह प्रतिदिन दो हजार रूपये खर्च करते हैं और प्रतिमाह 60,000 रुपये का खर्च करते हैं। जब उनसे पूछा गया कि क्या उनका परिवार इस काम में उनका समर्थन करता हैं तो उन्होंने बताया “पूर्ण रूप से, मेरे तीन बेटों की स्थिर नौकरियां हैं। वे इस काम के पीछे की भावना को जानते हैं और कभी-कभी वे इसमें मदद भी करते हैं। पानी बांटने के दौरान मुझे दान भी मिलता है और कभी-कभी लोग छोटी राशि का भुगतान कर भी मेरी मदद करते हैं।”

जानिए कैसै शुरू किया मुफ्त में पानी बांटना

मोहम्मद आबद का जन्म उनके भाई मोहम्मद सेठ के साथ सुजानगढ़ के गरीब परिवार में हुआ था। अर्थिक तंगी के कारण दोनों भाई उच्च शिक्षा ग्रहण नहीं कर पाए। फिर अचानक एक दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना में उनके भाई मोहम्मद सेठ का निधन हो गया। इसके बाद अपने भाई की याद में आबद ने अनजान लोगों की मदद करना शुरू कर दिया। इसके बाद उनके साथ एक घटना घटित हुई। जिसके बारे में उन्होंने बताया “एक रात मैं और मेरे दोस्त जंगल के पास नशा करके फंस गए थे। हम सब अपना पानी खत्म कर चुके थे और कोई दुकान या कोई इंसान भी हमारे आस – पास नहीं था। यह मेरे लिए एक वेक-अप कॉल था और मैंने उस दिन से शराब पीना छोड़ दिया। इस तरह की घटनाएं आपको उस चीज के महत्व का एहसास कराती हैं ,जो हम सभी के लिए आम हैं। यह से मैंने मेरा वाटर हट शुरू किया था। इसके बाद मैंने लोगों को मुफ्त पानी पिलाना शुरू किया।”

लाॅकडाउन के दौरान भी नहीं थमे अबाद

देश में कोरोनावायरस के कारण लगे लाॅकडाउन और भीषण गर्मी के दौरान भी मोहम्मद अबाद नहीं थमे। अबाद ने लाॅकडाउन के दौरान केवल दोपहर में घूमकर लोगों को पानी पीलाते थे। अबाद अब शहर के कई लोगों के लिए जाने – पहचाने चेहरा बन चुके हैं। अबाद ने अपने काम के बारे में कहा ” लोगों का प्यार है, जो मुझे शहर के चारों ओर अथक रूप से घूमता है और मैंने अपने आप को शपथ दिलाई है कि मैं अपनी आखिरी सांस तक इस काम को जारी रखूंगा।”

Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply