कोरोनाकाल में मजदूर वर्ग को भोजन पहुंचा रहा है यह संगठन, अब तक 10 लाख से ज्यादा लोगों तक पहुंच चुका है खाना

कोरोनाकाल में मजदूर वर्ग को भोजन पहुंचा रहा है यह संगठन, अब तक 10 लाख से ज्यादा लोगों तक पहुंच चुका है खाना- सूचना
Image credit :Times now

इस समय पूरी दुनिया कोरोनावायरस के कारण संकट के दौर से गुजर रही है। भारत में भी कोरोनावायरस के कारण 24 मार्च से देशभर में लाॅकडाउन लागू है। जिसके बाद से पूरे भारत देश को सामजिक के साथ अर्थिक समस्याओं का भी सामना करना पड़ा। लाॅकडाउन का सबसे ज़्यादा प्रभाव प्रवासी मजदूरों, दिहाड़ी मजदूरों, निर्माण श्रमिकों, ठेका मजदूरों, सड़क विक्रेताओं और रिक्शा चालकों पर पडा़ है जो रोज कमाकर अपना पेट भरते थे। इन श्रमिकों को अब अपने पेट भरने के लिए दर दर भटकाना पड़ रहा है।

इन श्रमिकों को मदद करने के लिए हाल ही में एक गैर – सरकारी संगठन आगे आया है। इस संगठन का नाम Rise Against Hunger India (RAHI) है। जो बेंगलूरू के बाहर मजदूर को खाना प्रदान कर रहा है। इस संगठन ने अब तक 10 लाख से अधिक लोंगों को (पका हुआ भोजन और साथ ही सूखा राशन की आपूर्ति) वितरित कर चुका है। इस संगठन से अब तक कई लोग जुड़ भी चुके है।

यह संगठन श्रमिकों को भोजन प्रदान कर रहा है। इस संगठन के कार्यकारी निर्देशक ने कहा “COVID-19 के प्रकोप ने हमारे समाज के सबसे कमजोर वर्ग को प्रभावित किया है, जो उन्हें भोजन और आश्रय तक सीमित पहुंच के साथ रोजगार प्रदान करता है। पूरे भारत में अपने नेटवर्क के माध्यम से हम लोगों के इन कमजोर समूहों तक पहुँच चुके हैं और उन्हें भोजन के पैकेट और सूखा राशन प्रदान कर रहे हैं। अब तक हमने इन लोगों को 1 मिलियन से अधिक लोंगों को भोजन के पैकेट और सूखे राशन की आपूर्ति की है, जो COVID-19 महामारी के कारण सबसे कठिन माना गया है। हम अपने प्रयासों के साथ आगे बढ़ रहे हैं और भारत के अधिक से अधिक शहरों में लोगों तक पहुंचने का लक्ष्य रखते हैं।”

संगठन ने YouTube पर एक वीडियो भी पोस्ट की है। जिसमें उन्होंने मजदूर वर्ग के लोगों के बारे में बताया है ।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply