एक समय मूर्ख कहे जाने वाले नवीन, आज हैं अरबपति

हर इंसान जिंदगी में अच्छे, बुरे और कई तरह के हालतों का सामना करता है। जिसमें जो इंसान मुश्किल परस्थितियों का सामना करके आगे बढ़ जाता है। आगे जाकर वह इंसान बहुत बड़ा इंसान बनता है। आज हम एक ऐसे ही शख्स के बारे में बात करने है। जिन्होंने मुश्किल हालातों में हार नहीं मानी और मेहनत हुए करते आगे बढ़ते रहे। जी हां कुछ ऐसी ही कहानी भारतीय मूल के अमेरिकी उद्यमी नवीन के जैन की है। जो आज कई युवाओं के जीवन आदर्श भी है। नवीन आज World Invitation Institute, Intelius, Infospace और Moon express जैसी बड़ी संस्थाओं के संस्थापक है। नवीन जल्द ही अमेरिका के टाॅप भारतीय मूल के उद्यमियों की लिस्ट में भी शामिल होने वाले हैं।

शुरुआती जीवन में काफी संघर्ष किया लेकिन कभी हार नहीं मानी

नवीन कुमार का जन्म छह सितंबर 1959 को शामली में हुआ। नवीन के जैन ने अपने शुरुआती जीवन से ही काफी संघर्ष किया है। नवीन के पिता नरेंद्र जैन सीविल इंजीनियर थे। उनके ईमानदार थे, वे हमेशा रिश्वत लेने से इनकार करते थे। जिसके कारण कई बार देश में कई जगह ट्रांसफर किया गया। जिसके कारण नवीन को अपनी स्कूली पढ़ाई के लिए काफी संघर्ष करना पडा़। नवीन ने उत्तर प्रदेश के शामली के वीवी इंटर कॉलेज से 12वीं पास की।

काफी संघर्ष के बाद नवीन को IIT Roorkee में दाखिला मिला। जहां से उन्होेंने अपनी इंजीनियरिंग की डिग्री पूरी की। इसके बाद नवीन ने XLRI स्कूल ऑफ बिजनेस एंड ह्यूमन रिसोर्सेज से M.B.A किया। नवीन ने अपनी ग्रेजुएशन पूरी करने के बाद महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी में जाॅब की, जिसके बाद वह से माइक्रोसाफ्ट में करने लिए अमेरिका भी गए। जहां उन्होंने 11 साल तक नौकरी की। इसके बाद वह कभी पीछे मुड़कर नहीं देखें।

सबसे पहले Infospace Company की स्थापना

1996 में नवीन ने सेलुलर फोन और अन्य मोबाइल फोन के लिए तत्कालिक एवं त्वारित सेवा के लिए Infospace Company की स्थापना की। शुरुआत कंपनी ज्यादा सफल नहीं रही। बिजनेस एक्सपर्ट ने कपंनी के आईडिया को ”मूर्ख” भी बताया। लेकिन नवीन ने किसी की बातों पर ध्यान नहीं और अपने आईडिया पर लगातार काम रहे। जिसका फल उन्हें जल्द ही मिला और एक साल के अंदर ही कंपनी की वैल्यू 35$ बिलियन डॉलर हो गई।

Infospace के कारण ही नवीन जल्द ही करोड़पति भी बने। लेकिन साल 2002 कंपनी के बोर्ड और पार्टनर्स के साथ मतभेद होने के कारण नवीन ने अपनी कंपनी ही छोड़ने का फैसला किया। इसके बाद साल 2003 में अमेरिकी आधरित सार्वजनिक रिकॉर्ड व्यवसाय कंपनी Intelius की स्थापना की। फिलहाल नवीन मून एक्सप्रेस कंपनी के CEO हैं। इसी कंपनी को अमेरिका ने अंतरिक्ष में यान भेजने एवं चंद्रमा पर उतारने की अनुमति प्रदान की है।

नवीन को ”Visionary Entrepreneurship” सहित कई पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है

नवीन जैन को उनके नेतृत्व कौशल, उद्यमशीलता की सफलता और मेहनत के लिए कई बार उनको पुरस्कारित किया है। 2011 में उन्हें “Visionary Entrepreneurship” से नवाजा जा चुका है। वहीं टाइम्स ग्रुप द्वारा “Light of India Business Leadership Award” से सम्मानित किया गया और रेड हेरिंग ग्लोबल 2011 सम्मेलन में लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड भी प्राप्त किया है। नवीन ने अपनी मेहनत और लगन से सबको प्रभावित किया है और उन्हें यह साबित कर दिया है कि मेहनत के बलबूते सबकुछ हासिल किया जा सकता है।


Connect With US- Facebook | Twitter | Instagram

Leave a Reply